अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चंचला प्रियदर्शिनी 

अमरिका के बोस्टन शहर मे बसने वाली चंचला प्रियदर्शिनी वैज्ञानिक, शिक्षिका, गृहस्थिन और एक माँ हैं‍। आप विज्ञान और मनोविज्ञान में शोध और पठन-पाठन के साथ साथ संगीत और साहित्य में गहरी रुचि रखती हैं। चंचला अंग्रेज़ी में विश्लेषणात्मक निबंध, यात्रा वृतांत, चलचित्र  समीक्षा, शास्त्रीय-संगीत-गोष्ठी वृतांत इत्यादि गद्य शैली का लेखन करती हैं और मातृभाषा हिंदी में कवितायेँ लिखती रही हैं। 

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की बालपन से विद्यार्थी रही चंचला ने राग संगीत पर आधारित कुछेक बंदिश गीतों की भी रचना की हैं जो कि मुख्यतः पुरबी बोली में हैं। चंचला अंग्रेज़ी साहित्य की कविताओं का हिंदी में और हिंदी की साहित्यिक कविताओं का अंग्रेज़ी में अनुवाद करती रहीं हैं।

आपने २०११ में ‘बुक क्लब ऑफ न्यू इंग्लैंड’ की शुरुआत की, जहाँ अंग्रेज़ी की किताबों पर बातचीत होती है और २०२० के फॉल में ‘साहित्य सरित् बोस्टन’,  की स्थापना की जो कि हिंदी साहित्य की सेवा को समर्पित है।

लेखक की कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं