अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आलोचना में हिन्दी ग़ज़ल 

पुस्तक : ग़ज़ल लेखन परम्परा और हिंदी ग़ज़ल का विकास 
मूल्य : 150/-
प्रकाशन वर्ष : 2018
प्रकाशक : अनुकृति प्रकाशन, 
165B, बुखारपुर, पुराना शहर, बरेली 

हिन्दी भाषा जितनी लोकप्रिय हो रही है, ग़ज़ल आज उतनी ही लोकप्रिय है। आज के साहित्य में जिस तरह से छंद की वापसी हुई है, उसने ग़ज़ल को एक विधा के तौर पर मज़बूती प्रदान की है। ग़ज़ल आज मुशायरों की भी आबरू है और शायरों की शिनाख़्त भी। 

हिन्दी में ग़ज़लें खूब लिखी जा रही हैं, लेकिन आज भी हिन्दी के परम्परावादी आलोचक ग़ज़ल को हिन्दी काव्य विधा के रूप में  स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। 

ग़ज़ल पर आलोचना भी कम लिखी जा रही है। इस लिहाज़ से हिन्दी के चर्चित शायर और ग़ज़ल के शोधार्थी डॉ. जियाउर रहमान जाफ़री की इसी वर्ष प्रकाशित किताब 'ग़ज़ल लेखन परम्परा और हिन्दी ग़ज़ल का विकास' इस कमी को दूर करती है। इसमें जहाँ हिन्दी ग़ज़ल की परम्परा को तथ्य के साथ रखा गया है, वहीं हिन्दी उर्दू ग़ज़ल से अन्य काव्य विधाओं का संबंध भी दर्शाया गया है। 

किताब की छपाई, आवरण को बेहद ख़ूबसूरत ढंग से अनुकृति प्रकाशन बरेली ने प्रकाशित किया है। इस महँगाई के दौर में किताब की मूल्य भी सिर्फ़ एक सौ पचास रुपये रखी गई है। 

कहना न होगा कि ये किताब हिन्दी ग़ज़ल की रवायत को और मज़बूती से रखेगी। 

डॉ. प्रभात कुमार प्रभाकर 
बारो, बेगूसराय, बिहार 
मोबाइल 8709572350

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं