अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बन्दर विमर्श

बन्दरों की एक टोली थी, उनका एक सरदार भी था।...बन्दर फलों के बग़ीचों मे फल तोड कर खाया करते थे, माली की मार और डंडे भी खाते थे… पिटते थे। एक दिन बन्दरों के सरदार ने सब बन्दरों से विचार विमर्श कर निश्चय किया कि रोज़ माली के डंडे खाने से बेहतर है, हम अपना फलों का बग़ीचा लगा लें और खायें। कोई रोक टोक नहीं। …और हमारे अच्छे दिन आ जायेंगे।

सभी बन्दरों को यह प्रस्ताव बहुत पसन्द आया। ज़ोर-शोर से गड्ढे खोद कर फलों के बीज बो दिये गये। पूरी रात बन्दरों ने बेसब्री से इन्तज़ार किया। सुबह देखा गया अभी तो फलों के पौधे भी नहीं उगे थे! दो-चार दिन बन्दरों ने और इन्तज़ार किया - परन्तु पौधे फिर भी नहीं आये। बन्दर बेचैन हो गये। उन्होंने मिट्टी हटाई, देखा…, उन्हें फलों के बीज जैसे के तैसे मिले।

बन्दरों ने कहा - लोग झूठ बोलते हैं। हमारे कभी अच्छे दिन नही आने वाले। हमारी क़िस्मत में तो माली के डंडे ही लिखे हैं। बन्दरों ने सभी गड्ढे खोद कर फलों के बीज निकाल कर फेंक दिये। पुन: अपने भोजन के लिये माली की मार और डंडे खाने लगे।

देश वासियो - ज़रा सोचना...! कहीं हम बन्दरों वाली हरकत तो नहीं कर रहे। 60 साल एक दल और एक ही परिवार को हमने शासन का अवसर दिया - आज देश की हालात क्या हुई? क्या दूसरा दल दो बार शासनकाल के हक़दार नहीं? यदि दो कार्यकालों के बाद भी आपको लगे कि अच्छे दिन नही आये तो मोदी को उखाड़ फेंकना। एक परिपक्व समाज का उदाहरण पेश करिये...बन्दरों जैसी हरकत मत करिए। यह कमेंट्स उन लोगों के लिए है, जिन्हें मोदी काल में ''भौकाल'' नज़र आता है...!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

लघुकथा

कविता

सांस्कृतिक कथा

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं