अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डायरी का एक पन्ना – 002: सर्कस का क्लाउन

एक मशहूर कहावत है कि “दूसरे की थाली में परोसा हुआ बैंगन भी लड्डू लगता है”। अपना जीवन तो हम सब जीते ही हैं लेकिन दूसरे की ज़िन्दगी में झाँक कर और उसे जी कर ही असलियत का पता चलता है। इस कड़ी में अलग अलग पेशों के लोगों के जीवन पर आधारित जीने का प्रयास किया है।

 

जैमिनी ब्रदर्स सर्कस में क्लाउन की नौकरी करते हुये मुझे बीस साल से ऊपर हो गये थे। अपनी उछल-कूद और बेतुकी हरकतों से मेरा काम लोगों को हँसाना था। बीस साल के इस लम्बे अरसे में मैंने बहुत कुछ सीखा था। मेरी उछल-कूद को देख कर सर्कस में आये लोगों के और विशेषकर बच्चों के चेहरे पर हँसी और मुस्कान देखकर मुझे बहुत सुकून (संतोष) मिलता था। अपने आत्मविश्वास के बलबूते पर सब को हँसाना तो अब मेरे बायें हाथ का खेल हो गया था। इस काम में मैं अब अपने आपको एक एक्सपर्ट समझने लगा था।

सन २०१६ में हमारा कैंप टोरोंटो के सीएनई ग्राउण्ड में लगा हुआ था और इसी वर्ष जैमिनी ब्रदर्स सर्कस ने अपनी पच्चीसवीं जयंती को बहुत ज़ोर-शोर से मनाने का फ़ैसला किया। क्योंकि इन दिनों स्कूल की छुट्टियाँ थीं इस लिये सर्कस ने अपने ग्यारह से दो और तीन से छ: वाले दो शो केवल बच्चों के लिये रखे थे। इन दोनों कार्यक्रमों में बच्चों को और उनके साथ बड़ों को भी टिकट की क़ीमत में पचास प्रतिशत की छूट थी। रेडियो और टेलीवीज़न के माध्यम से लोगों को जानकारी दी जा रही थी। फिर क्या था। पूरा परिवार का परिवार शो देखने के लिये आ रहा था। शनिवार और रविवार को तो ख़ास तौर पर हमारा तम्बू पूरी तरह से भरा हुआ होता था। इसी बीच जिस दिन मेरी ड्यूटी होती थी, मैं भी अपना हँसाने का काम पूरी ईमानदारी से करता था। मेरी हरकतों को देख-देख कर बड़ों के साथ-साथ ख़ुशी से बच्चे भी बहुत चिल्लाते और ख़ूब आनन्द लेते। जितना वो खिलखिलाते उतना ही मुझे जोश आता और मैं नये से नये पैंतरे दिखाता था।

ऐसे ही एक बार रविवार के दो बजे वाले शो में मेरी ड्यूटी थी और मैं अपना काम कर रहा था। मुझे देख कर बड़े और बच्चे ख़ूब हँस-हँस कर आनन्द ले रहे थे। अचानक मेरा ध्यान एक बच्चे पर पड़ा जो मेरी तमाम कोशिशों के बावजूद भी गुमसुम बैठा था और हँस नहीं रहा था। उस बच्चे को चुपचाप बैठा देख कर मुझे बहुत अजीब लगा। अपने अनुभव के आधार पर मैं ने जो-जो भी सीखा था वो सब किया लेकिन वो बालक टस से मस नहीं हुआ और ऐसे ही चुपचाप बैठा रहा। मेरे लिये तो यह एक बहुत बड़ी चुनौती बन गई। मैं भी इतनी जल्दी हार मानने वाला नहीं था। हालाँकि इस बीच मैं जो भी कर रहा था उसे देख कर बाक़ी सब बड़े और बालक तो खिलखिला कर हँस रहे थे लेकिन मेरा ध्यान केवल उस बच्चे की ओर था। मेरे सब कुछ करने के बाद भी जब मैं उस बालक के मुख पर हँसी न ला सका तो मुझे अपने और अपनी कला पर बहुत लज्जा आने लगी और मेरी आँखों से आँसू गिरने लगे। मुझे ऐसे रोता देख कर वो बालक बहुत ज़ोर से हँसा और अपनी माँ की तरफ़ देख कर बोला—

"मम्मी मम्मी देखो वो क्लाउन रो रहा है।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

दीप्ति अचला कुमार 2021/05/03 03:15 AM

बहुत सुन्दर लघुकथा , विजय ! कहानी का अंत बहुत प्रभावशाली रहा. दूसरों के जीवन में पैठ कर, उनके अनुसार सोचना दुष्कर कार्य है। तुमने इसमें सफलता पाई। बधाई !

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

ललित निबन्ध

कविता

किशोर साहित्य कहानी

लोक कथा

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं