अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कंगाल

महानगर के व्यस्त चौराहे के रेड सिग्नल पर ट्रैफ़िक के रुकते ही छुट-पुट सामान बेचने वालों और भिख़ारियों की सक्रियता देखने लायक़ होती। वे कारों के निकट आकर बंद खिड़की के काँच पर हथेली से ठकठकाते ताकि अपना सामान बेच सकें।

वे बच्चों के लिये रंगीन स्लेट, खिलौने, मोबाइल चार्जर, डस्टर आदि बेचने की चेष्टा करते। कुछ भीख माँगती औरतें-बच्चे परेशान करते।

कार की अधखुली विंडो से लोग सामान का मोल-भाव करते। कहीं सौदा पट जाता, कहीं नहीं। सारा दिन मुंबई महानगर के व्यस्त चौराहों व जंक्शनों पर यही चलता ।

"वो देख! एक सिल्वर कलर की कार रुकी।"

फूल बेचने वाली लड़की उस तरफ़ लपकी, पीछे की सीट पे एक महिला पसरी हुई थी। उसने आधी विंडो खोली और लड़की से लाल गुलाब के गुच्छे के लिये मोल-तोल शुरू कर दिया।

"कितने का देगी?"

"साठ का है...ताजे़ लाल गुलाब...ले ले मेम साब," वो विनती कर रही थी।

"तीस में दे जा।"

"ना...ना, खरीद नहीं।"

"बोहनी का टेम है, …अच्छा चालीस दे दे।"

लड़की ने इंकार किया।

सिग्नल की लाल लाइट पीली हो गयी थी। लड़की ने खिड़की के भीतर अपना गुलदस्ता महिला को पकड़ा दिया।

"जल्दी पैइसा बाहर फेंक दे सेठानी ....आंटी।"

महिला ने मोटे पर्स से पाँच सौ का नोट निकाला और हवा में लहरा दिया।

"छुट्टे हैं इसके?"

"न..नहीं... पण.. तू फूल फेंक, ...नहीं देगी मैं... चोरनी," लड़की बिफ़र गई।

कार का काला विंडो ग्लास धीरे-धीरे बंद हो गया। कार ने तेज़ी पकड़ ली। ट्रैफ़िक फिर चलने लगा था।

कार में बैठी महिला ने ताज़े सुर्ख़ गुलाब के फूलों को सूँघा... फ्री में हथियाए गुलदस्ते को पा वो फूली नहीं समाई।

ड्राइवर ने अपने आइने में देखा लड़की बिसूरती हुई पीछे भाग रही थी। उसने गाड़ी धीमे करते हुए साइड में लगा ली। महिला चिल्लाई, "क्या कर रहे हो!"

उसने अपनी विंडो खोली और लड़की को आने का इशारा किया। लड़की पास आई तो उसने अपनी जेब से चालीस रुपए निकालकर उसके हाथ में थमा दिए।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं