अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कुण्डलिया – गोपेश कुमार – 001

(१)
आओ मेरे  साजना, ढूँढ़े  मेरा  प्यार।
तेरे  बिन  बेरंग है, रंगों  का त्यौहार॥
रंगों का  त्यौहार, गाँव  खेले है  होली।
सुन सा-रा-रा शोर, लगे है मन को गोली।
उड़ा अबीर-गुलाल, गीत फागुन के गाओ।
बुला रही है  प्रीत, पिया  परदेसी आओ॥
(२)
पाई जीभ बर्तन ने, दीवारों ने कान।
नातों में नफ़रत घुली, सूना हुआ मकान॥
सूना हुआ मकान, करे  दिन याद पुराने।
कहाँ गई वो प्रीत, और वो मधुर तराने।
हँसते  आस-पड़ोस, लड़ें आपस में भाई।
पूछे बूढ़ा बाप, सज़ा क्यों हमने पाई।
(३)
बनकर बदली प्रेम की, फिर छाओ मन मीत।
नाच उठे मन मोर-सा, गाकर मधुरिम गीत॥
गाकर  मधुरिम गीत,  प्रिये मैं  तुम्हें बुलाऊँ।
प्रेम  राग  को छेड़, पीर  मन  की  बहलाऊँ॥
सुन लो मेरी पुकार, सुमुखि आओ छन-छन कर।
बुझा विरह की आग, प्रेम  की बदली  बनकर॥
(४)
हाला  तेरे  ताप  से, जलते घर परिवार।
तुमसे बढ़े समाज में, लूट-पाट व्यभिचार॥
लूट-पाट व्यभिचार, पतन की राह दिखाते।
धर्म देश  धन वंश, सभी का नाश कराते॥
डूब नशे में लोग, पियें ख़ुद विष का प्याला।
जीवन को अभिशाप, बना  देती  है हाला॥
(५)
महके तुलसी आँगना, झूमे  द्वारे  नीम।
गौरैया के सुर मधुर, दें  आनंद  असीम॥
दें  आनंद  असीम, तुहिन  की बूँदें आली।
कर दे भाव विभोर, उषा की सुन्दर लाली॥
बजे शिवालय शंख, जाग जग- जीवन चहके।
करके  तुझको याद, गाँव मन मेरा महके॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं