अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मासिक चक्र

"प्रिया वहीं रुको!"

एक तीखी आवाज़ प्रिया के कानों में सुनाई दी, वो वहीं ठिठक कर रुक गयी। नयी नवेली दुल्हन प्रिया कुछ समझ ही न पायी, माँ ने कुछ सिखाया नहीं, सहम गयी प्रिया, सास अनुभा जी की बात सुनकर। आख़िर मुझसे भूल क्या हुई, माँ ने बोला था कुछ अनजाने में ग़लती हो तो माफ़ी माँग लेना। प्रिया आगे सासू माँ के पैरों की ओर बढ़ी, "अरे . . . रे रुको वहीं।" 

"आख़िर हुआ क्या, माँ जी," प्रिया की आँखें भर आयीं। 

"मुझे मत छुओ बस, वो सामने कोठरी है चार दिन वहीं रहना है।" 

"पर क्यूँ?" प्रिया अचम्भित हो गयी। 

"मुझे नहीं पता, तुम कितनी बेशर्म हो तुम्हें शर्म नहीं आती, इस तरह की बात पूछते।"

प्रिया चुपचाप कोठरी की ओमासिक चक्रर बढ़ गयी। उसके मन में एक ही सवाल था, कि आज के समय में ऐसी बातें भला कौन सोचता होगा।

नयी जगह, कुछ अँधेरा भी था कोठरी में, सुविधा के नाम पर, एक चटाई और एक घड़ा पानी।

ननद भी पीछे से आ गयी थी। एक पतली चद्दर लेकर, दूर से फेंककर दी थी। 

आख़िर ये सब है क्या? रात जाग कर निकल गयी। आकाश भी उसके पास न आया, कल तो कहाँ चांद-तारे की बात कर रहा था। और आज ख़ुद ही ग़ायब, दस बज चुके थे एक चाय भी नसीब न हुई।

प्रिया को घुटन होने लगी, उसने मन में कुछ तय किया, और कोठरी से बाहर आ गयी और तेज़ी से रसोई की ओर बढ़ गयी। 

"अरे रुको!" बहुत सारे लोग आवाज़ देते रहे, वो न रुकी।

"सब कुछ बर्बाद कर दिया इस लड़की ने! ये नयी पीढ़ी पुरानी पीढ़ी को गर्त मैं ढकेल देगी।"

प्रिया सबकी बातें सुनती रही फिर उसका धैर्य टूट गया। 

और फिर उसने जो कुछ बोला, सब चुप हो गये। 

प्रिया अभी बोलती जा रही थी। 

"माँ जी मुझे नहीं पता था कि आपकी सोच ऐसी होगी। मैं तो आपकी बेटी बनकर आयी थी। आप क्षमा करें, पर आपको समझने में धोखा खा गयी।"

"पर बहू पुराने ज़माने से ये नियम बनाये गये हैं," अनुभा जी कुछ नम्र हुईं। 

"नियम क्यूँ बनाये गये, ये तो पता कर लेते। उसके पीछे का कारण भी तो पता होना चाहिए। बस बिना जाने एक दूसरे पर नियम मढ़ दिया जाता है। मासिक धर्म में रक्तप्रवाह की वज़ह से कमज़ोरी आ जाती है इसलिए चार दिन आराम कर सकें। मासिक धर्म सृजन के लिए ईश्वर का वरदान है उसे श्राप क्यूँ बनाएँ। मासिक धर्म पाप नहीं यदि मासिक धर्म नहीं होगा तो औरत माँ कैसे बनेगी? वो बाँझ हो जायेगी। जिसकी वज़ह से संतान उत्पत्ति होती है वो पाप कैसे?"

किसी के पास कोई जबाब नहीं था। सब विमूढ़ से प्रिया की ओर देखने लगे।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं