अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नाना जंजाला

‘गृहकार्य नाना जंजाला’. . . बाबा तुलसीदास बरसों पहले कह गए हैं। मेरे जैसे लोगों को प्रतिदिन इसका एहसास होता है। कभी पंखा ख़राब, कभी नल। कभी सीलन की समस्या, कभी बाथरूम की। काम वाली की दिक्क़तें। सोसाइटी की मोटर ख़राब। जेनरेटर फुँक गया। रोज़ रात कुत्तों के द्वारा सीढ़ियों पर गंद फैलाना। टंकी का ढक्कन ग़ायब! अचानक किसी पाइप का फट जाना। कूड़े वाले का न आना। बिजली बिल इतना ज़्यादा? गैस बिल तो इतना कभी नहीं आता था? फ्रिज में गड़बड़ी। ए.सी. कमरे को ठंडा नहीं कर रहा। कंप्यूटर स्टार्ट ही नहीं होता! माउस भी बीस बार ठोकने पर चलने को राज़ी होता है। बैटरी तो निश्चित रूप से बैठ गई है! बीमारी पीछा नहीं छोड़ती। कभी पत्नी बीमार, कभी ख़ुद, कभी बच्चे की बीमारी। डॉक्टर, जाँच, दवाई!... कितना गिनाऊँ? लोग रोज़-रोज़ इन समस्याओं से जूझते रहते हैं। कुछ झेल लेते हैं, कुछ नहीं। बिजली वाले, प्लंबर, कूड़ा वाले, सफ़ाई वाले, प्रेस वाले, डॉक्टर – सबको झेलना आसान भी तो नहीं होता। एक के बदले दो माँगने वाले, फिर भी अच्छा काम न करने वाले तो भरे पड़े हैं! हमारे जैसे लोग इनसे कहाँ निबट पाते हैं? जो दुनियादार हैं उन्हें कुछ फ़र्क नहीं पड़ता। वे कभी ज़्यादा दे देते हैं, कभी टेंटुआ दबा देते हैं!

पिछले एक महीने से आर ओ ख़राब चलता रहा है। मिस्त्री – नहीं, इंजीनियर एक चीज़ ठीक करके  जाता है कि दूसरी चीज़ ख़राब हो जाती है। किचन का नल टपकता था। कल प्लंबर आया, उससे पुराना फ़ेस खुला ही नहीं। पानी और ज़्यादा टपकने लगा। सुबह टंकी का पानी ख़त्म! आज दिन में आने का बोलकर गया प्लंबर शाम में आया। दिन भर उसका फोन ऑफ़। दिन भर पानी को टपकते देखकर और प्लंबर को फोन लगा-लगाकर तनाव बढ़ता रहा। शाम में ठीक हुआ तो जान में जान आई। 

"पैसे कितने देने हैं?"… 

"लो, भाई, जो कहते हो ले जाओ!"

पिछले साल दोनों बाथरूम तुड़वाकर नए सिरे से बनवाने में क्या दुर्गति नहीं हुई? पहले तीन मिस्त्रियों से मोल-भाव करने में जान खपाई हुई। फिर बेसिन, कमोड, इंडियन सीट, नल वग़ैरह ख़रीदने को जगतपुरी की दौड़ लगाई। नहीं हुआ तो ‘प्लंबरम शरणम गच्छामि’ बोलकर उसकी बताई दुकान से सारा सामान मँगवा लिया। सीमेंट, रेत, रोड़ी के लिए ख़ुद दौड़ने के बदले प्लंबर को ही उसकी इच्छानुसार पैसे समर्पित कर दिए। इसके अतिरिक्त रोज़-रोज़ वह जो सामान लाता रहा, उसके पैसे बिना तर्क किए उसे देता रहा। उसने तो बाथरूम में दो कीलें लगाकर शीशे लगाने के पैसे भी ले लिए। बाथरूम की दीवारों की सफ़ाई के अलग से लिए ही, मलवा फिंकवाने के नाम पर भी मूँड लिए!

इस साल घर की रँगाई-पुताई करवानी है, छोटी बालकोनी को घेरकर बेटी की पढ़ाई के लिए जगह बनानी है। विंडो ए सी हटाकर स्प्लिट ए सी लगवानी है! पिछली बालकोनी में घर का कबाड़ सुरक्षित रखने के लिए लोहे की अलमारी बनवानी है। कबूतरों से बचने के लिए कुछ उपाय करवाना है। किताबों के लिए एक शेल्फ़ की आवश्यकता का भी कुछ करना है। 

तुलसीदास घर छोड़कर साधु ऐसे ही नहीं बन गए थे! पहले तो इतने झमेले थे भी नहीं। न फ़्लैट होते  थे, न बाथरूम। लोग खुले में निबट लेते थे, पंखा झल लेते थे। नदी, तालाब, कुएँ से पानी निकाल लेते थे। वैद्य जी की पुड़िया खा लेते थे। दीया, ढिबरी जला लेते थे। बस कभी दीये का तेल ख़त्म हो जाए, बाती जल जाए समस्या हो जाती थी। आज जैसे झमेले होते तो तुलसीदास क्या करते? ‘रामचरित मानस’ लिख पाते? ‘हनुमान बाहुक’ लिखकर अपने फोड़ों का इलाज कर लेते? ‘हनुमान चालीसा’ पढ़कर कंप्यूटर चालू कर लेते? ‘श्रीराम चंद्र कृपालु भज मन, हरण भव भय दारुनम’ गाकर प्लंबर और भाँति-भाँति के मिस्त्रियों का भय हरवा लेते?

यक़ीन मानिए, वे जाकर गंगा में कूद जाते। या वैद्य जी से संखिया माँगकर खा लेते। उन्हीं के ’कवि-वंश’ में जन्म लेकर अगर हम कवि लोग इस दुनिया के जंजालों को झेल लेते हैं तो हम लोग उनसे बड़े कवि हो गए कि नहीं? बहनौं-भाइयौं! बोलिए, हुए कि नहीं?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'हैप्पी बर्थ डे'
|

"बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का …

60 साल का नौजवान
|

रामावतर और मैं लगभग एक ही उम्र के थे। मैंने…

 (ब)जट : यमला पगला दीवाना
|

प्रतिवर्ष संसद में आम बजट पेश किया जाता…

 एनजीओ का शौक़
|

इस समय दीन-दुनिया में एक शौक़ चल रहा है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता

स्मृति लेख

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कविता

किशोर साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं