अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आओ ना बरसात

(मनहरण घनाक्षरी में रचना)
 
वर्षा काल अनमोल, नभ देता आँखें खोल।
हर्ष भरे मेघ भैया, धरती पे आओ ना॥
 
धरा अब तप रही, ख़ुशियाँ भी ठप रहीं।
मिलकर सोंधी गंध, ख़ुशबू फैलाओ ना॥

भेंक राह देख रहे, पपीहा भी दर्द सहे।
बाल जन मन नैया, अब मचलाओ ना॥
 
नावों वाली रेस आये, छपकी मुन्हें लगायें।
खेलें साइकिल दौड़, जल उफनाओ ना॥
 
पशु पक्षी शोर करें, आशा नित मोर करे।
मेघ टकराने वाली, शया चमकाओ ना॥
 
फूल बाग़ शूल बने, रास्ते अब धूल बने।
वायु भारी गर्द गर्द, नमीं दे बैठाओ ना॥
 
मन भींगे ख़ुशी पा के, बचपन ताके झाँके।
खेल खलिहाल ताके, जल बरसाओ ना॥
 
पिया परदेश रहे, विरहन दर्द सहे।
पुरुवा के झोकों संग, दर्द पहुँचाओ ना॥
 
सूखे नदी ताल सर, बढ़ता गर्मी क़हर।
जीव जंतु हाँफ रहे, जलधार लाओ ना॥
बहके मदन मन , चहके कोयल बन।
झूला झूलूँ प्यारी संग, टिपटाप आओ ना॥
 
मेंढकों की टर्र टर्र , झींगुरों की झर्र झर्र।
सांध्य गीत शुभ लागे, जल छलकाओ ना॥
 
कानन अब कट रही, वायु देखो घट रही।
तरु जड़ मानवता , ज्ञान से भींगाओ ना॥
 
नर बुद्धि सुधि नहीं, आपदा से क्रुद्धि रही।
क्लेश द्वेष घृणा सब, धरा से बहाओ ना॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं