अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अश्रु-सरिता के किनारे

अश्रु-सरिता के किनारे एक ऐसा फूल है
जो कभी कुम्हलाता नहीं है!


दूर उन सुनसान जीवन-घाटियों के -
बीच की अनजान सी गरहाइयों में,
कहीं पत्थर भरे ऊँचे पर्वतों के बीच में,
नैराश्य के तम से भरी तन्हाइयों में
गन्ध-व्याकुल हो पवन-झोंके जिसे छू,
झूमते-से जब कभी इस ओर आते,
कोकिला सी कूक उठती है हृदय की हूक,
जीवन की पड़ी वीरान सी अमराइयों में।
उस अरूप, अशब्द अद्‍भुत गंध का संधान पाने,
 अनवरत ऋतुयें भटकतीं,
कूल मिल पाता नहीं है!


हर निमिष चलता कि जिसको खोजने,
पर लौट कर वापस कभी आने न पाता,
है बहुत सुनसान दुर्गम राह जिसकी,
काल का अनिवार कर दुलरा न पाता,
बिखर जाते बिम्ब मानस की लहर में,
रूप ओझल भी न होता, व्यक्त भी होने न पाता,
चाँद-सूरज, झाँक पाने में रहे असफल सदा ही,
विश्व की वह वायु छू पाती नहीं
इस मृत्तिका की गोद में वह टूट झर जाता नहीं है।


एक दिन जिस बीज को बोया गया था,
कहीं दुनिया की नज़र से दूर अंतर के विजन में,
चिर-विरह के पंक में अंकुर जगे,
चुपचाप ही रह कर न जाने कौन क्षण में,
वह कुमारी साध थी जिसने
उमंगों को गलाकर रंग भरे थे,
अब वही सौरभ कसक भरता मधुर
इस सृष्टि के परमाणुओं के हर मिलन में,
वे अमाप, अगम्य, घन गहराइयाँ रखतीं सँजो कर,
और उसके लिये सच है ये,
समय की लहर से 
उसका कभी भी रंग धुल पाता नहीं है!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

साहित्यिक आलेख

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं