अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बचपन की वह रोमांचकारी घटना

लगभग 35-36 वर्ष पहले की बात है,जब मैं 10-12 वर्ष का बालक था। चैत का महीना था। खेतों और खलिहानों में समृद्धि के उत्सव गीत गाये जा रहे थे। गाँव (गर्रेही) लगभग पाँच कोस दूर (लगभग 12-13 कि.मी.) बेतवा (नदी) पार भेंड़ी -जलालपुर में प्रति वर्ष नव दुर्गों में मेला लगता था। यह क्षेत्र का प्रसिद्ध एवं बड़ा मेला था। समस्त क्षेत्र वासी इस मेले में बड़े उत्साह से भाग लेने जाते थे। 

गाँव में भी मेले में जाने की तैयारियाँ ज़ोरों पर थीं। बैलों की जोड़ियाँ तैयार की जा रही थीं। सग्गड़ (छोटी बैलगाड़ी) ठोक-ठाक कर तैयार किये जा रहे थे। एक विशेष प्रकार का उल्लास एवं उत्साह गाँव में छाया हुआ था। विशेष कर बच्चों में। 

मेले में जाते समय बैलगाड़ियों की दौड़ होती थी। लोग महीनों महले से बैलों को खिला-पिला कर तैयार करते थे। जहाँ रास्ता समतल, चौड़ा एवं मैदान की तरह होता, लोग अपनी-अपनी बैलगाड़ी परिचालन एवं बैलों की धावक क्षमता का परिचय देने लगते थे। हमारे छोटे दादा जी को (पिता जी के बड़े भाई, जिन्हें हम सब भाई-बहन छोटे दादा कहते थे, (क्योंकि वे बड़े दादा से छोटे थे) को अच्छे बैल रखना और बैलगाड़ी दौड़ाने का बहुत शौक़ था। तय यह हुआ कि सुबह चार बजे सभी लोग खलिहान में इकट्ठे होकर मेले के लिये चलेंगे। दादा तो खलिहान में लेटते ही थे, अतः हमें और भइया (श्री रामजी श्रीवास्तव) जो मुझसे दो वर्ष बड़े हैं को आदेश हुआ कि छाता लेकर सुबह घर से खलिहान पर आ जाना। 

एक दिन पहले से ही हम लोग कपड़े धोकर तैयार थे। मुझे याद है लाल चौखाने वाली वह शर्ट जिसे पहनने के लिये हम किसी विशेष उत्सव, समारोह एवं मौक़े की प्रतीक्षा किया करते थे।  शायद वह शर्ट जिसे पहन कर हम विशेष गर्व एवं ख़ुशी का अनुभव करते थे, मेरे जीवन की सबसे अच्छी शर्ट थी। जिसकी समानता आज तक महँगे से महँगे कपड़े नहीं कर सके। रात तो सोते-जागते किसी तरह निकल गई, किन्तु भुन्सारे (प्रातःकाल) से पहले ही अपनी लाल चौखाने वाली शर्ट और मक्खन जीन की खाकी रंग की पैण्ट पहन कर हम तैयार हो गये। 

घर से खलिहान कुछ दूर था। घर था बीत बस्ती में और खलिहान था गाँव से कुछ हट कर तालाब के किनारे। भइया छाता लेकर और मैं नाश्ते की पोटली लिये निकल पड़े खलिहान की ओर। 

साथ में यह भी बताते चलें कि छाता को साथ लेने का एक विशेष प्रयोजन था। दरअसल बैलगाड़ी दौड़ के समय छाते को ऊपर उठाकर तान देने से बैल अपनी पूरी ताक़त लगाकर दौड़ने लगते थे। भइया आगे-आगे और मैं पीछे-पीछे। धुँधलका होने के कारण दूर का दृश्य साफ़ महीं दिखाई दे रहा था। अपनी धुन में मस्त भइया आगे बढ़ते जा रहे थे। मैं कुछ पीछे था। भइया को सामने कुत्ते जैसी कोई आकृति दिखाई दी। किन्तु वे उसकी परवाह किये बिना आगे बढ़ते गये। इससे पहले कि भइया उसकी अजीब हरकतों को देख कुछ समझ पाते कि वह आकृति मुँह फाड़ कर उनकी ओर झपटी। उनके गले से एक तेज़ चीख़ निकल पड़ी, "दादा बचाओ...!"

मरता क्या न करता! भइया ने तेज़ी से घबराहट में छाते को उसके फैले हुये मुँह की ओर कर दिया और डर से अपना मुँह फेर लिया। 

खलिहान पास में ही था। भइया की चीख़ सुन कर आस-पास के लोग जो खलिहान में ही सोते थे, "मारो... मारो..." चिल्लाते हुये दौड़ पड़े। छाते के आगे की नोंक की चुभन से तिलमिला कर और लोगों को आते देख जिनौरा (भेड़िया) भाग खड़ा हुआ। 

रात के अंतिम प्रहर की नीरवता में भइया की हृदय विदारक चीख़ सम्पूर्ण गाँव में सिहरन दौड़ा गई। मौत को साक्षात मुँह फैलाए देख अपनी स्थिति का स्मरण कर आज भी मेरे रोंगटे खड़े हो जाते हैं और शरीर में सिहरन दौड़ जाती है। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपनी विलक्षण अनुभूतियाँ
|

(जब अपने मुख पर स्व. पापा की छवि देखी) आज…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

सामाजिक आलेख

दोहे

कविता

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं