अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चाहे कितने दीप जलाना

चाहे कितने दीप जलाना।
सुधियों के दीपक न बुझाना॥
1.
जो भी तुम से रूठ गये हैं,
अनजाने ही छूट गये हैं,
उन्हें मनाकर बड़े प्यार से,
फिर से अपने पास बुलाना॥
2.
जिनका जीवन भार बना है,
विषमय यह संसार बना है,
सहानुभूति प्रलेप लगाकर,
उनके उर के व्रण सहलाना॥
3.
रंग न शेष, तरंग नहीं है,
मन में रंच उमंग नहीं है,
आकर्षण नूतन भर-भर कर,
उनका जीवन सरस बनाना॥
4.
पंगु हो गईं अभिलाषायें,
भंग हुईं जिनकी आशायें,
उनको दे सान्त्वना सुहृदयता,
सारे सपने सत्य बनाना॥
5.
प्यार नाम है त्याग - क्षमा का,
जीवन की अक्षुण्ण सुषमा का,
आत्मीयता का प्रसाद दे,
अपनों को फिर हृदय लगाना॥
6.
एक बार जिसको अपनाया,
पुलकित होकर कण्ठ लगाया,
भ्रान्ति-भँवर में डूब अचानक,
उसको कभी नहीं बिसराना॥
7.
भूल हुई जो उसे भुलाओ,
वर्त्तमान को सुखद बनाओ,
जाने अगला पल क्या लाये?
जीवन का है नहीं ठिकाना॥
8.
दु:ख स्वयमेव दूर जायेगा,
पल-पल नव सुख बरसायेगा,
निज मन का आँगन विस्तृत कर,
पुन: प्यार के दीप सजाना॥
9.
मन से सकल मलिनता जाये,
जीवन में अमलिनता आये,
रोष-घृणा का तिमिर दूर कर,
प्रिय! शुभ दीपावली मनाना॥
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं