अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

छोटकी और मोटा हाथी

चींटियों का झुंड भोजन की तलाश में निकला था कि रास्ते पर मोटे हाथी ने एक चींटी को कुचल दिया और अपनी बाहु की ताक़त दिखाने लगा। चींटियों का झुंड उसकी इस करतूत को अनदेखा कर और आगे बढ़ा। उन्हें मालूम था कि वे  मोटे हाथी के साथ दो-दो हाथ नहीं कर सकते। झुंड में छोटकी चींटी सब कुछ देख रही थी। उसे अपने पिताजी और दादाजी के प्रति बहुत क्रोध आया और रास्ते के एक किनारे मुँह बनाकर चुपचाप बैठ गयी। सभी बड़े-बुज़ुर्ग उसे समझाने लगे कि  मोटे हाथी को हम नहीं धमका सकते, हम उसके सामने मजबूर है, लाचार है। अंततः सभी छोटकी चींटी की हठ के आगे थक-हारकर ग़ुस्सा करने लगे। 

तभी छोटकी चींटी के दादा जी आए और छोटकी चींटी से कहा, "बेटी कुछ समय पहले की बात है। पद्मा नदी के किनारे हम रहने के लिए एक अच्छा स्थान तलाशने निकले थे और तब  मोटा हाथी बार-बार हमारा घर तोड़ दिया करता था। फिर एकदिन उचित समय देखकर मैं उसके नाक में घुस गया और डंक मारने लगा। मोटा हाथी रो-रोकर अपने भूल पर पछतावा करने लगा,  मोटा हाथी हमसे माफ़ी माँगकर कई वर्षों तक दूर के जंगलों में भाग गया। उचित सबक़ पाकर  मोटे हाथी ने छोटे-छोटे प्राणियों को सताना भी छोड़ दिया।"

छोटकी चींटी का मुँह फिर ख़ुशी से खिल गया। 

"बेटी अभी हम भोजन के तलाश में निकले हैं, अपने काम पर निकले हैं। बदला लेने का यह उचित समय नहीं है। सही समय देखकर हम उसे चित कर देंगे।" 

दादाजी के बात सुनकर छोटकी चींटी बहुत प्रसन्न हुई और पूर्व की भाँति पहले पंक्ति में पहले-पहले चलने लगी। ख़ुशी से अपने दादाजी के क़िस्से औरों को भी सुनाने लगी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

पाण्डेय सरिता 2021/09/16 11:36 AM

बहुत खूब

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

बाल साहित्य कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं