अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दिलासा


माँ, उम्मीद ना टूटने देना
तेरे आँचल में फिर समाएगा तेरा सलोना

1.
माँ, चल पड़ा हूँ छोड़ कर अब डेरा
रास्ते में कई रातें बीतीं, कई बार हुआ सबेरा
पोटली में ले रखी हैं रोटियाँ और चटनी
ख़ूब काम आया सिखाया हुआ सब तेरा
माँ, तकती रहना राहें, राहों में है तेरा सोना
तेरे आँचल में फिर समाएगा तेरा सलोना

2.
माँ, संकट तो अति गंभीर है
मेरे जैसे हज़ारों बेटों की भीड़ है
सब चल रहे थामे हाथों में साहस का डंडा
कुछ हिम्मत हार गए, कुछ हाथ पसार गए
मगर मैं पहुँचूँगा, तुम धीरज ना खोना
तेरे आँचल में फिर समाएगा तेरा सलोना

3.
माँ, हम ग़रीबों का कोई ना होता साथी
काम निकालने वाले ये बड़े लोग हैं स्वार्थी
जब इनसे हमारा पेट भी ना पाला गया
जंगल के रास्ते चल पड़े जंगल की लिए बाती
माँ, अभी बहुतू दूर हूँ, मगर तुम दुखी ना होना
तेरे आँचल में फिर समाएगा तेरा सलोना

4.
माँ, आज नई सुबह नई आस जगी
रेल की पटरियों से ख़ूब दूर तक रेस लगी
अब लगता है, थक गया हूँ माँ
आज तो चिकनी पटरियों पर ख़ूब आएगी नींद
कल जागा तो एक झोंके में तेरी गोद में होगा तेरा ये खिलौना
तेरे आँचल में फिर समाएगा तेरा सलोना

5.
माँ तकती रही पगडंडियाँ
बेटा, अब क्या भूल गया रस्ता या,
गाँव में ही छुपकर खेल रहे बचपन की अठखेलियाँ
आज चार दिन बीत गए, जो आने को कहा था
माँ, व्यथित चित्त, मन ही मन बुदबुदाया
तभी अचानक शोर सा आया ..
दालान पर गाड़ी रुकी
सफ़ेद वस्त्र में लिपटा माँ का लाल
माँ काठ की मूर्ति, गिर पड़ी
उम्मीदें टूट गईं, आँचल छितरा गया

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं