अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हथेली पर बाल

एकबार शहंशाह अकबर का दरबार लगा हुआ था राजा टोडर मल, राजा मान सिंह, मियाँ तानसेन, राजा बीरबल, बाकी नवरत्न और सभी सभासद बैठे हुए थे। एकाएक अकबर ने बीरबल से सवाल किया कि बीरबल ये बताओ कि  हथेली पर बाल क्यों नहीं होते?

बीरबल के पूछ्ने पर कि किस की हथेली की बात हो रही है, अकबर ने जवाब दिया कि उनकी अपनी हथेली की बात हो रही है। बीरबल ने हाथ जोड़ कर कहा, “बादशाह सलामत, क्योंकि आप दान बहुत देते हैं इसी कारण आपकी हथेली पर बाल नहीं हैं|"

ये सुनकर अकबर ने फिर सवाल किया – “वो तो सब ठीक है मगर तुम्हारी हथेली पर बाल क्यों नहीं हैं।”

बीरबल ने जवाब दिया, “जहांपनाह, आप दान देते हैं और मैं दान लेता हूँ, इसी कारण मेरी हथेली पर बाल नहीं हैं।"

अकबर चक्कर में आगया मगर उसने हार नहीं मानी, फिर सवाल किया – “बीरबल चलो यह बात तो समझ आ गई कि मेरी और तुम्हारी हथेली पर बाल क्यों नहीं हैं, मगर यहाँ पर जो ये सब सभासद बैठै हैं उनकी हथेली पर भी तो बाल नहीं हैं, इस का क्या कारण है?”

बीरबल ने फिर हाथ जोड़ कर कहा, “अन्नदाता, मामूली सी बात है, जब आप दान देते हैं और मैं दान लेता हूँ तो सभासदों से और कुछ तो बन नहीं पाता, बस ईर्ष्या के मारे अपने दोनों हाथों को बुरी तरह से मलना शुरू कर देते हैं। यही कारण है मेरे मालिक  कि इन की हथेली पर बाल नहीं हैं।”

बीरबल के उत्तर से अकबर बहुत प्रसन्न हुआ और इनाम में सोने की माला दे दी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अब पछताए होत का 
|

भोला का गाँव शहर से लगा हुआ है। एक किलोमीटर…

चार बेवकूफ़ों की कहानी 
|

मैं और अर्पिता उर्मिला मैम के यहाँ रिविज़न…

जन्मदिन का तोहफ़ा
|

मेरे प्यारे साथियो! आपको कहानियाँ पढ़ना और…

झूठी शान
|

यह कहानी किन्ही राजा-रानी की नहीं, जो घोड़े…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

कविता

किशोर साहित्य कहानी

लोक कथा

ललित निबन्ध

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं