अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति

ख़ुद अँधेरे में रहती, दूसरों को रोशनी देती,
ख़ुद चिराग़ बन कर जलती रहती उम्र भर,
चारों तरफ़ का अंधकार समेट कर दूर करती,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।
 
माना तुझ में है बसती स्वयं शक्ति
या फिर काली से ऊर्जा मिलती,
अंदर से है सब्र कहीं मही सी
या फिर तू ही कहीं मही तो नहीं,
हैरान हूँ देख तुझे,
आँसू छुपाकर भी प्यार में
कैसे अपना सर्वस्व लुटाती,
एक हाथ से अश्रु पोंछती,
एक हाथ से बनाती रोटी,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।
 
अपने दुखों का बैठ सोचे,
इतना वक़्त कहाँ तुझे,
कल की बातें आज भूल,
लग जाती फिर परिवार में,
प्रताड़ित हुई थी अभी सुबह ही तू,
अभी शाम को देखा मैंने तुझे हँसते,
घात हुआ था आत्मसम्मान पर तेरे,
कैसे बिसरा दिया तूने मुस्कुरा के,
चोट तो लगी थी गहरी बहुत,
भरने में थोड़ा तो वक़्त लगाती,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।
 
सब कहते हैं तू मज़े से टी.वी. देखती है,
घर पर दिन भर आराम से सोती है,
ये क्या, अभी तो ऑफ़िस से आयी है,
लग गयी बनाने खाना सब के लिए,
घर आँगन की सफ़ाई की थी,
अभी निकल पड़ी कपड़े पसारने,
बच्चे को स्कूल से लाना है,
फिर माँजने हैं ढेर बर्तनों के,
मैंने तो तुझे देखा हर वक़्त बस काम करते,
थोड़ा सुस्ता ले कमर है तेरी रात से अकड़ी,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।
 
तुझे कहाँ समय कि तू सोचे अपनी,
रुक कर पूरा करे अपने अधूरे से सपने,
अपनी इच्छाओं को तो जैसे मार बैठी
और तू इतनी स्वार्थी भी तो नहीं,
बिना शिकन के कैसे कर लेती ऐसी चाकरी,
जिसमें हैं ना तारीफ़, ना छुट्टी, ना ही सैलरी,
बिना पदोन्नति के हमेशा एक ही दर्जे पे रहती,
और तू इतनी लोभी भी तो नहीं,
बिना रुके, बिना थमे, हर वक़्त सबका आधार बनती,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।
 
खुद पतंगा बन दूसरों के लिए जलती रहती,
दूसरों को इसका आभास तक ना होने देती,
इतनी प्रचंड प्रबल कैसे है तेरी आधार शक्ति,
हे नारी! तू कहाँ से लाती है इतनी शक्ति।


 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं