अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

होली की हुल्लड़ियाँ - 1 लड़ाई-झगड़े


आज सबेरे हम जगे, गली में मचो भयो हुड़दंग,
भूरे ऊपर डारि गयो, कल्लू कालो रंग,
कल्लू कालो रंग, कि भूरे खिसियाने घूमें,
हम होली नहीं खेलते, तो क्यों रंग में डूबें?
कहें ‘पवन’ कविराय, गली में हुल्लड़ मच गयो,
रंग पिचकारी छोड़, हाथ में लठ्ठ उठाय लओ। 


होली मिलिबे हम चले, मस्त अहेरी चाल,
पीछे पड गयो डोकरा एक, खाकर गोला भाँग,
खाकर गोला भाँग, पकड़बे हमकूं भागो,
तूने का मोकूं समझ, रंग हम पर डारो।
कहें ‘पवन’ कविराय, नशेड़ी कींच में गिर गयो,
और ऐसो गिरो कि सीधो वालो हाथ टूट गयो। 



मुखिया, मटरू, मंगली, लगे पियन सब संग,
ना काहू की जेब में, रूपया हैं सब तंग,
रूपया हैं सब तंग, जिकिर कुछ बीच में चल गयी,
तब तक बोतल तीन, गले के बीच उतरि गयी,
कहें ‘पवन’ कविराय, गले सब सबके पड़ गये,
रूपया कौन चुकाय, बात पर जूत उतरि गये।



छोटू-मोटू चलि पड़े, भरि पिचकारी हॉफ,
भई निशाना बालिका एक, मूड हो गया ऑफ,
मूड हो गया ऑफ, कि छोटू जी घबराये,
होते जब तक रफूचक्क, डोकर इतने में आये,
छोटू तो झट भगि लिये, मोटू रहे घुटियाय,
डोकर ने झट आय कें, दीनों हाथ सटाय,
दीनों हाथ सटाय, कि होली मँहगी हो गयी,
दो अंगुर की बात, गज भरी लम्बी हो गयी।
कहें ‘पवन’ कविराय, पिचकारी बन्दूकें बनि गयी,
रंग भंग में मिलो, कि सब होली सी मनि गयी। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं