अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

इन छुट्टियों में माँ

माँ तुम घर पर ही रहना
तभी तो तुमसे मिल पाऊँगी मैं,
इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ वीडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


बीत गयी मुश्किल घड़ियाँ
पर टली नहीं ख़तरे की कड़ियाँ
महामारी की इस जंग में 
सरकार का साथ निभाऊँगी मैं ,


इसलिए इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


गर्मियों का आया मौसम
लेकर साथ आम और याद
तुम्हारे हाथ का खाना 
यादों में फिर से खाऊँगी मैं,


क्योंकि इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


बच्चे करते हैं याद तुम्हें
उनको कहानी सुनाकर 
समझा देना माँ 
रात में फोन घुमाऊँगी मैं,


क्योंकि इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ वीडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


अच्छा हुआ ये सब पहले आया, 
कोरोना का क़हर बाद में छाया 
वरना तुम्हारी ख़बर भी नहीं मिल पाती माँ
पर अभी तो तुम्हे देख-सुन पाऊँगी मैं,


हाँ, इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


शायद घर फैला हो 
इन्टरनेट का भी झमेला हो
थोड़े और गुण सिखा देना माँ 
घर बेहतर सँभाल पाऊँगी मैं,


क्योंकि इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


हूँ तो मैं तुम्हारी छाया
तुमसे मैंने हर कण है पाया
बचपन की यादों के सागर में 
फिर से गोते लगाऊँगी मैं,


इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


घर के बग़ीचे की
ओस भरी घास पर टहलना
साथ में पौधों और जानवरों को पानी देना माँ
इस बार नहीं कर पाऊँगी मैं,


क्योकि इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं।


पर तुम परेशान मत होना माँ 
अगले साल दो चक्कर लगाऊँगी मैं
मगर इन छुट्टियों में माँ 
सिर्फ़ विडियो कॉल पर आऊँगी मैं


आमित्या
११ जून २०२०

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं