अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खचाखच भरी रेलगाड़ी

खचाखच भरे रेलगाड़ी के डिब्बे में
एक पैर पर अपना संतुलन बना
उसने कर लिया ख़ुद को स्थगित
अब उसके सिवा सभी को है
जल्द से जल्द घर वापसी की
आकुल आतुरता।

खचाखच भरे रेलगाड़ी के डिब्बे में
गमकता है पसीना नमक की तरह
द्रव अपने बहने के लिए
जबरन रास्ते ढूँढ लेता है
आदमी के पास नहीं होता
ऐसा कोई विकल्प।

खचाखच भरे रेलगाड़ी के डिब्बे में
सब पहचानते हैं एक दूसरे को
लेकिन बने रहते हैं अनजान
तकलीफ़ों की निजता के बीच
दूरियों का होता है
अपना तिलिस्म।

खचाखच भरे रेलगाड़ी के डिब्बे में
बजती है ढोलक झनझनाते हैं मजीरें
बँटते है प्रसाद के बताशे
मिलता है सिर्फ उन्हीं को
जो सबको धकिया देते हैं
अपनी आस्था के बाहुबल से।

खचाखच भरे रेलगाडी के डिब्बे में
कोई न कोई पा लेता है
छत पर टँगे पंखे की जाली पर
धूलभरी चप्पल को टिका
आलथी पालथी मारने की जगह
प्रजा जानती है पादुकासीन होना।

खचाखच भरे रेलगाड़ी के डिब्बे में
ज़िंदगी कभी नहीं थमती
लोहे की पटरियों पर घिसटती है निरंतर
कोई रोज़ पूछता है अपने आप से
क्या डिब्बा कल भी भरा होगा
आज की तरह खचाखच?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं