अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खरा सिक्का

वो कहता, घूम कर आता हूँ,
और दूर कहीं निकल जाता था।

 

रात अँधेरी, 
वो अकेला डर काँप जाता था
नहीं पता कहाँ जाता, 
किससे मिलता
मिलता भी या नहीं?
क्या उसे डर नहीं लगता?
क्या किसी को पता था?

 

भोर समय वो वापस आता,
बिन बोले 
बिन कुछ कहे,
धीरे से ठंडे बिस्तर में 
सो जाता।

 

तानों से जब आँखें खुलतीं,
तानों से जब शामें ढलतीं,
चुप-चाप सारा दिन वही करना,
साँसें भरना, और -
पूरी दुनिया से लड़ना।
जी हाँ! चुप-चाप वो भी लड़ना,
किसको आता है?
जाने कौन सिखाता है...

 

खैर!

 

चमड़ी उसकी मोटी थी,
क़िस्मत उसकी 
ज़रा सी खोटी थी।

 

सबने कहा..
बेकार है ज़िन्दगी इसकी,
इज़्ज़त बिक गयी है जिसकी,
फूट गयी है क़िस्मत उसकी,
बेकार है ये ज़िन्दगी इसकी।

 

वो सुनता, फिर भूलता,
भूलता, फिर सुनता।

 

कुछ दिन गुज़र गए,
कुछ महीने निकले,
चंद साल भी निकल गए,
लाखों करोड़ों ताने सहे।

 

वो फिर कहते
शायद लड़का मर गया,
कुछ कहते 
वो गाँव अपने घर गया।

 

एक सुबह एक ख़बर आयी,
साथ एक तहलका लायी..
ख़बर उसी की थी

 

कोई बाँध उसने तोड़ दिया था,
कोई रास्ता उसने मोड़ दिया था,
ख़बर ही कुछ ऐसी थी..

 

मंगल-पृथ्वी को जोड़ दिया था,
जीवन वहाँ खोज लिया था।

 

दुनिया ढूँढ़ रही जिसे
बच्चे से वो खेल रहा था
पतंग, नाव, उड़नतश्तरी 
और न जाने क्या,

 

फिर एक फ़कीर ने कहा..

 

बेकार नहीं थी ज़िन्दगी इसकी,
इज़्ज़त मिल गयी वापस जिसकी,
क़िस्मत चमक रही आज उसकी,
देख लो दुनिया देख लो
गा रहे सब महिमा जिसकी!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं