अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लहर (दिवाकर)

वैसे तो
तुम्हारे और मेरे बीच
कभी कुछ था ही नहीं
कोई रिश्ता नहीं था...
मगर फिर भी...

 

वो तुम्हारा सागर के
बदन को सहलाना
एक बहाना बन गया
और मैं तुम्हें
चाहने लगी...

 

तुम हवा हो...
कभी भी...
कभी भी...
किसी भी रफ़्तार से
बह सकती हो

 

मैं एक लहर हूँ
विशाल सागर की
मगर फिर भी
बँधी हूँ किनारों से
मैं पानी की कुछ बूँदों के सिवा
कुछ भी नहीं थी
               तुमने.. मुझे
               चलना सिखाया...
               और मैंने....
                एक लहर का नाम पा लिया
मैं तुम्हारे साथ साथ चलने लगी
तुम्हारे रुक जाने पर मैं रुक जाती
तुम्हारे चलने पर मैं चल जाती
         जब तुम बहुत खुश होते
              तो मैं भी तुम्हारे साथ
                   आसमान छूने की
                       कोशिश करती

 

ऐसा नहीं कि सागर ने मुझे समझाया नहीं
मगर मैं पागल थी

 

आज जब तुमने रफ़्तार पकड़ ली
तो मैं भी खुद को रोक नहीं पायी
तुम्हारे पीछे पीछे.... मगर....
तुमसे आगे निकल जाना चाहती थी
मैं ना पीछे मुड़ कर देखा...
ना ये देखा कि आगे क्या है...
और....
तुम्हारे साथ चलने की कोशिश में
मैं टकरा गई किनारों से...
टूट गई......

 

मेरे बदन के कुछ टुकड़े
मुझसे अलग हो कर
किनारों के पार फैल गए
खो गए जाने कहाँ
आज जब कि तुम साथ नहीं
जाने क्यों दिल कहता है
कि मेरे साथ धोखा हुआ है
तुमने बे-वफ़ाई की है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं