अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लाली चिड़िया और मुनमुन

आम के एक पेड़ में लाली चिड़िया रहती थी। वह बड़ी दयालु और परिश्रमी थी। दिन-रात वह अपने काम में मगन रहती थी। उसका एक छोटा-सा प्यार-सा बच्चा था। उसने उसका प्यारा-सा नाम रखा था- मुनमुन।

मुनमुन अभी बहुत छोटा था। उसके पंख भी छोटे-छोटे थे, इसलिए वह उड़ नहीं पाता था। सिर्फ़ इधर-उधर फुदक कर अपना मन बहलाया करता था। वह साफ़-साफ़ बोल भी नहीं पाता था, केवल ’चींचीं‘ कर  अपनी माँ से बातें किया करता था।

लाली चिड़िया मुनमुन को बहुत प्यार करती थी। वह उसके लिए दूर-दूर से दाने चुग कर लाती थी।

रोज़ सुबह होते ही लाली चिड़िया दाने की खोज में निकल पड़ती थी और शाम होने के पहले ही घोंसले में वापस लौट आती थी। चिड़िया को आया देखकर मुनमुन ’’चींचीं‘ कर अपनी ख़ुशी प्रकट किया करता था। धीरे-धीरे मुनमुन बड़ा होने लगा। उसके पंख भी धीरे-धीरे बड़े होने लगे। अब वह इधर-उधर उड़ सकता था। कुछ ही दिनों बाद साफ़-साफ़ बोलने भी लगा। अब वह बड़े मज़े से बातें किया करता था।

एक दिन जब लाली चिड़िया दाने की खोज में बाहर जाने को निकली ही थी कि आसमान में काले-काले बादलों को देख कर ठिठक गयी।

उसने मुनमुन को बुलाकर समझाते हुए कहा, “मुनमुन बेटे मेरे घर आने तक तुम घर पर ही रहना, इधर-उधर कहीं मत जाना। आज तूफ़ान के लक्षण नज़र आ रहे हैं। मैं जल्दी ही लौट आऊँगी।”

’’ठीक है माँ, मैं घर में ही रहूँगा”,  मुनमुन ने सिर हिलाते हुए माँ से कहा।

दूसरे ही क्षण लाली चिड़िया फुर्र से उड़ कर चली गई। माँ के जाने के बाद मुनमुन बड़ी देर तक इधर-उधर घोंसले में चक्कर काटता रहा, फिर वह घोंसले से बाहर निकल आया और एक डाली पर बैठ कर आसमान में उठते काले-काले बादलों को देखने लगा। बादलों का उठना उसे बड़ा भला लग रहा था।

उसने सोचा, क्यों न थोड़ी दूर तक घूम आया जाय, माँ को थोड़े ही पता चलेगा। माँ के आने से पहले ही वह घर लौट आएगा।

फिर क्या था, उसने हवा में अपने पंख फैलाए और फुर्र से उड़कर नज़दीक के एक पेड़ पर जा बैठा।

अब हवा भी थोड़ी तेज़ चलने लगी थी। मुनमुन गुनगुनाता हुआ एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर फुर्र-फुर्र कर उड़ता हुआ आगे की ओर बढ़ा जा रहा था। आज उसे उड़ने में काफ़ी आनन्द आ रहा था। वह एक पेड़ से होकर दूसरे पेड़ होता जंगल से बाहर निकल आया।

तभी एकाएक ’सों सों‘ करती हुई हवा तेज़ हो गई और आसमान बादलों से पूरी तरह ढँक गया। अचानक हुए इस परिवर्तन से मुनमुन काफ़ी घबरा उठा। वह पीछे मुड कर तेज़ी से घर की ओर भागने लगा। किन्तु चारों ओर अँधेरा छा जाने के कारण उसे रास्ता साफ़ नहीं सूझ रहा था। साथ ही तेज़ी से उड़ने के कारण वह थक भी चला था। उसने सोचा, अगर माँ की बात मान कर वह घर से बाहर नहीं निकलता तो कितना अच्छा होता। इस आकस्मिक विपत्ति में तो नहीं फँसता। उसका मन रुआँसा हो गया। वह ज़ोर-ज़ोर से माँ को पुकारने लगा- "माँ...... माँ.......।”

तभी एक ओर से पंख फड़फड़ाती हुई लाली चिड़िया आ पहुँची। वह घोंसले में मुनमुन को न पाकर उसे खोजने निकली थी। मुनमुन की आवाज़ पहचानकर वह उसके नज़दीक गई और उसके बाँह पकड़ कर तेज़ी से घोंसले की ओर लौट पड़ी। किसी तरह गिरती पड़ती वह मुनमुन को लिए घोंसले में पहुँच गई। दूसरे क्षण आँधी और भी तेज़ हो गई।

घोंसले में पहुँच कर मुनमुन ने रोते हुए माँ से कहा, “मुझे माफ कर दो माँ। तुम्हारे मना करने पर भी मैं घर से बाहर निकल गया था। आज अगर तुम समय पर नहीं पहुँचती तो पता नहीं तूफ़ान में मेरी क्या दुर्गर्त होती।”

उस दिन के बाद मुनमुन फिर कभी-भी अपनी माँ की आज्ञा का उल्लंघन नहीं किया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

इमली
|

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

कविता

बाल साहित्य कहानी

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं