अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लो फिर से

लो फिर से 
सुबह हुई है
धरत पे किरणों ने नई चादर बिछाई है 
जलते हुऐ सूर्य ने 
रहस्य में गुनगुनाने लगीं हैं गलियाँ 
पुर-असरार में हैं गीत नदियों की लहरों के


पेड़ों पत्तों को जगाया है  
परिंदों के नग़्मों की आवाज़ों ने


मुस्कुराने लगें हैं दरवाज़े घरों के
मिटने लगी है फ़ज़ा-ए-ग़म
मंज़र सा बना है तेरी याद का पहला सा
बादल से छाये हैं तेरी ज़ुल्फ़ों के मुक़द्दर के
घूँघट उठाया है तेरे हुस्न की तरंगों ने


शाख़-सारें हुई हैं जवां 
रात सिमटने लगी है सितारों की चाँदनी
सूर्य अभी गर्म करेगा 
शीत ठंडी नर्म सी रात के अंगों को


हँसती शबनम अभी रंगों से लिप्त होगी
बल खाती नन्ही नन्ही सी पगडंडियाँ
तुझे बुलायेंगी पाँव रखने के लिए
बन रहे साए वृक्षों के 
होंगे लिपटने के लिए हाज़िर


फिर आँचल सा झलकेगा एक सजी शाम का
तेरा अक्स बनेगा मेरे शहर की रूह पर
आसमां के सितारे झिलमिलाएँगे 
तेरे आने की उम्मीद बन कर


महफ़िल में तसव्वुर सा होगा 
तेरे शबाब का
यौवन में खिलेगी 
मेरे बाग़ की कली कली 
जवानी का सुर मिलेगा 
बाँहों को मुबारक होगी तेरे आने की ख़बर
महफ़िल को मिल जाएँगे दो जीने के पल

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं