अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माँ तू तो समझती थी न...

वो पग फेरों में,
जो उदासी थी।
तेरे सीने से लग के,
जो बिलखी थी।
आँसू मेरी आँखों के,
माँ! तू तो समझती थी न...


जिस काया को सहेजा,
बरसों...
वो एक पल में ही,
रौंद उठी।
सिंदूर की क़ीमत ऐसी होगी,
माँ! तू तो समझती थी न...


बाबा की पगड़ी,
भाई का सीना।
इसीलिए ख़ामोश रही,
वरना ये चिंगारी।
क्या थी?
माँ! तू तो समझती थी न...


रिश्तों की बलि,
चढ़ी हर पल।
जज़्बातों का कोई,
मोल नहीं।
जिस क़ीमत पर,
सिंदूर ख़रीदा, उस पर कोई,
ज़ोर नहीं...
माँ! तू तो समझती थी न...


एक अनजाना डर,
हर पल तड़पाता।
हर एक नज़र मेरा,
वजूद निगल जाती।
तन के ज़ख़्म तो,
भर भी जायें...
रूह तो हर पल ही,
घुटती है।
माँ! तू तो समझती थी न...


अब न झिलमिलाती,
चाँदनी थी।
न इस दिल में,
कोई हसरतें थीं...
जो ज्वाला धधक रही
हृदय में,
माँ! तू तो समझती थी न...

बाँध सब्र का टूट गया,
जब वो दिन भी आया।
घर की लक्ष्मी को,
किसी और थाली में परसाया।
क़ीमत लेने का,
ये लहजा।
माँ! तू यह नहीं समझती थी...


अब भूल गई मैं,
बाबा की पगड़ी।
टूट गई रिश्तों की डोर,
रोक नही पाई,
अपने ज्वालामुखी,
का विस्फोट...
दहक रहा था रोम रोम,
हर क़तरा था, बग़ावत पर..
माँ! क्या तू यह समझती थी?


तार तार हो गई,
बिखर कर मैं...
पाकीज़गी पर दाग़ लगा,
सातों वचन भी न...
न्याय कर सके,
इस वक़्त की दरिंदगी पर।
माँ! क्या तू यह समझती थी?


बाज़ार में जाकर,
बिक गई जो...
उसकी क़िस्मत भी,
धानी थी।
तेरी छवि-सलोनी की तुझको,
ना क़ीमत कोई आनी थी...
माँ! क्या तू यह समझती थी?


ख़ुद से हर पल एक,
घिन सी आती।
अंग अंग खरोंच के,
ख़ुद को समझाती।
कुछ और लिखा था,
तक़दीर में...
माँ! क्या तू यह समझती थी?


अंजाम आ गया,
जो नियति ने लिखी थी।
जो आग लगी थी,
इस मन में...
वो तन में भी समा गई,
आज एक सुकून सा मिला है।
आज़ादी को महसूस किया है,
अब कोई न छू पाएगा।
माँ! इतना तो तू समझती थी न...


यह अग्नि परीक्षा पूर्ण हुई,
न पायल न महावर की,
बेड़ी है पैरों में...
न सिंदूर की लाज बचानी है।
अब तो पंख फैलाकर,
यह पाखी उड़ जानी है।
माँ! इतना तो तू अब समझती है।


एक पहल तो,
तू भी कर लेती...
जो मेरी ताक़त 
बन जाती।
तेरी यह छवि सलोनी,
इंसाफ़ मेरा भी कर जाती...
फिर भी क्यों तू न बोली? जब,
सब कुछ तू समझती थी...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं