अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं गंगा सी पावन नहीं

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

 

बन कर बहन, बेटी, बहू अवतार मैंने कई लिए,
एक चेहरा है मेरा मगर ढेरो किरदार जिए।
सिसकते रहे हैं लब मेरे तड़पती रही जान,
दहेज़ के नाम से है विष के प्याले भी पिए॥

 

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

 

हूँ नहीं तेरी माशूका सिर्फ़ एक बेटी भी मैं हूँ प्रिये
अक्सर मैंने अपनों की ख़ातिर कड़वे घूँट हैं पिये
पाना तुझे भी था, ना था घर को भी खोना,
कैसे निभाती मैं वो क़समें वादे जो तुझसे किए,
कुछ पाप तो ना चाहते हुए मैंने भी किए

 

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

 

बहुत इल्ज़ाम तेरे अपने सर कर लिए,
यही है संस्कार मुझको मेरी माँ ने दिए,
तुमसे बढ़कर है घर की इज़्ज़त-ओ-आबरू,
यही सोच कर बुझा लिए चाहतों के दिये,

 

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

अपने प्रेम की अब तुम न देना कोई दुहाई प्रिये
तुम्हें वास्ता है उन पलों का जो हमने साथ जिये
ख़्वाहिशें दबा, तुम अरमाँ भी जला देना
घर तुम भी बसा लेना अपनों के लिए॥

 

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

 

ख़्वाब अब अपने मैंने भी फ़ना कर लिए,
कल को तंज ना कसे कोई बेटियों के लिए,
पढ़ाए लिखाए उनपे कोई शक ना करें,
यही चाहत में मैंने अपनी चाहत पे पर्दे किए॥

 

मैं गंगा सी पावन नहीं हूँ प्रिये,
हूँ इंसान कई गुनाह मैंने भी किए॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं