अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैनिफ़ेस्टो

मैं भूखा .....
तुम भी भूखे हो,
आओ, आओ मिलकर भूख मिटायें,
इक-दूजे को नोचे खायें।

नहीं खा सके इक-दूजे को?
क्यों न सियासी पेंच लगायें,
बहुत सीखा है इतिहास से हमने,
नुस्ख़ा क्यों न वही आजमायें।

चलो खेलते हैं एक खेल,
गेरुआ-हरा प्रतिद्वंदी बन जायें,
लोहित हो यह मही पल-भर में,
चील-कौओं की दावत हो जाये।

यही वक़्त की माँग है,
सत्ता की परिभाषा में यह आम है,
ख़रीदार चाहिए इस बाज़ार में,
देश बेचना भी क्या कोई बड़ा काम है? 

बिकते हैं स्तम्भ लोकतंत्र के,
लोकतंत्र क्या बिका नहीं?
भूनते हैं बच्चे भुट्टे के दाने,
संविधान क्या झुका नहीं?

आओ रोटी सकें हम,
जाहिल गँवारों को लड़ने दो,
काम हमारा है मैनिफेस्टो दिखलाना,
इन श्वानों को भौंकने दो।

मैनिफेस्टो है अपना तैयार,
आओ समाजवाद का नारा लगायें,
उदारीकरण की नीति अपनाकर,
मिल-बाँट कर खायें-गायें। 

रोटी कपड़ा और मकान,
मैनिफेस्टो में हैं तमाम,
इन श्वानों की तरफ हड्डी फेंको,
भरो, भरो जितना भर सकते हो गोदाम

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं