अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरी सुंदर बगिया

जीवन का एक ख़ूबसूरत हिस्सा
कुछ अनुपम यादों  का क़िस्सा
कई नवजात पंछी हैं यहाँ नादान
वे लता पुंज हैं और मैं बाग़बान॥

है उनमेंं एक मुरली श्याम की सी
हरपल सुधा रस बरसाती है, वह
वाचालता भरी है उसमें बेशुमार
चिड़िया सी सदा चहचहाती है, वह॥

इक उनमें बाला नादान  सी
विलक्षण प्रतिभा की खान सी
दूर-दराज़ में मान बढ़ाया
एक नया आईना दिखाया॥

चरित्र उसका प्रखर है
पाना उसे भी शिखर है 
कंटकों से सबक सीखा
हुनर उसमें  ख़ूब दिखा॥

एक है गुमसुम पंछी सी
सदा अपने में मस्त रहती है
प्रतिभा का तोल नहीं उसमें
हरदम वह नए रंग भरती है॥

बसन्त में जैसे कुसुम खिलता है
वो मन्द समीर सी महकती है
है इस बगिया की ख़ुश्बू वो
चहुँ दिशा ख़ुशियाँ बिखेरती है

पंछी कोटर की है वो नादान
बढ़ाये वृक्ष की हरदम शान
ऋतु बारिश सी बरसे वो
वन गौरेया सी चहके वो॥

"पूजा" किसी की इबादत है
दोनों की विपरीत आदत है
तराशे पत्थर मूरत बनता है
बन ख़ुदा वो सबकी सुनता है॥

एक उनमें योद्धा सी लगती है
सावन धार सी वो बरसती है
गरजती है वो तेज़ तलवार सी
टूटती अरि पर बन कटार सी॥

कुछ पत्थर निखट्टू हैं
जैसे बिन बाग के घोड़े
ज़रा सी मस्ती थी उनमें
फिर भी सरपट वो दौड़े॥

कुछ विहग बिन नीड़ के
पथ की उनको तलाश थी
शिखर उनको भी छूना था
परिश्रम अभी दुगुना था॥

कर उधम वो भी शूल हटाते हैं
राहों में डट कर मंज़िल वो पाते हैं
एक दूजे के विपरीत अंग हैं वो
इस उपवन के विरले खग हैं वो॥

दो फूल यहाँ नादान है
एक दूजे की जान है
इस लताकुंज कि शान है
वे ही मेरा स्वभिमान हैं॥

इस बगिया की वो दो तितली
हरदम ख़ुशबू उड़ाती हैं, वो।
ज्यों झरने का मधुर कलरव
स्नेह से प्रतिपल मुस्काती हैं, वो॥

जीवन का यह सुख निराला
हरपल यहाँ हँसी महकती है
यह मेरी सुंदर पाठशाला है
जहाँ सुरीली चिड़ियाँ चहकती हैं॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं