अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मृत्यु

बड़ा जादू है
इन चंद अक्षरों में
गढ़ देते हैं
अनगिनत कहानियाँ
इक नज़र में
किन्ही के ख़्वाबों को
रौंद देते हैं ये
इक पल में
और मढ़ देते हैं
इच्छाओं का ख़ौफ़नाक जंजाल
फिर कई पल मिलकर
बुन देते हैं वृहत उपन्यास

किन्तु एक नहीं
अनगिनत
पर सबकी अंतर्व्यथा
एक-सी है
इस तरह चंद शब्दों से
निकलते असंख्य शब्द हैं
चीखते हैं फिर हादसों को
और उनसे उपजी
कहानियों को....
उपन्यासों को....

किन्तु सुने कौन
सभी चीखते हृदय हैं
सुनने वाले कानों में तो
घुल रहा है अतीत
अब तक

अक्षर....
सचमुच बड़े ज़ालिम हैं ये
पढ़ लिया जाता है जिन्हें
बिना लिखे
आँखों से, आँखों में कहीं
पीले - से अरमान सब
कुचले जाते हैं बेरहमी से
और कई रंगों में लिपटा सफ़ेद रंग
रहने लगता है फिर
स्थिर

इस तरह भटकती रहती हैं
जीवित कहानियाँ....
और उपन्यास...
किसी के खून को,
किसी के बदबूदार पसीने को
रौंदकर....
किसी के अरमानों की लाश को
ढोए हुए !

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं