अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

निकृष्टता

आज तड़ित का विषम रूप था,
निशाने पर अंबा का स्वरूप था।
स्मरण कर जिसको सहम -सा जाता,
कृत्य ऐसा वीभत्स कुरूप था॥

कु-योजना को अंजाम देने को,
प्रांगण में था वह घुस आया।
अपवित्र हाथों से उसने डाला,
भवानी माँ पर काला साया!!

परंतु ख़ब्त के अंधेपन में,
निर्बुद्धि यह जान न पाया।
भटके को रास्ते पर लानेवाली,
तुझे बिन सीख न छोड़ेगी 'अभया'।

क्यों खंडित की भुजा तूने?
क्या सँभाला नहीं तुझे रूह ने?
ओ अपूजक! तुझे लाज न आई?
जो अपनी माँ की कोख लजाई।

जिन गौरी माँ की अनुकम्पा से,
सुशोभित था शिव का परिवार।
उस माँ की सम्मान स्वरूपी नथ,
को चुरा ले गया काला मंगलवार॥

ज़रा स्मरण तो कर लेता स्व अज को, 
जब अपवित्र किया मंदिर की रज को।
घमंड तो रक्तबीज का भी न रहा,
तो तेरा तुच्छ अस्तित्व ही क्या है़ !

महिष-मर्दिनी को है ललकारा,
तैयार खड़ी है तेरी चिता।
ओ अधर्मी - दानव - दनुज!
तुझे छोड़ेंगी न अपराजिता!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं