अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पर्ण विलगन

“मैं” पत्ती टूटी हुई!


ज़मीन पर गिरी हुई,
विरह का दुःख झेलती,
और मिट्टी में समाने का,
इंतज़ार बेसब्र करती हुई,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

कभी पितृतुल्य वृक्ष,
कभी मातृतुल्य धरती,
की ओर देखती हुई,
कभी विलगन का दुःख,
कभी धरती से मिलन का सुख,
हृदय भर महसूस करती हुई,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

वो मेरा शाखा से निकलना,
शिशु का जैसे पैदा होना,
हरे रंग में लिपटी हुई,
कुछ शूल सी, कुछ पंख सी,
मासूम सी, कुछ ज़िद्दी सी,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

वो मेरा प्यारा सा बचपन,
मैं थी एक कोंपल सी,
बारिश की बूँदों में,
कुछ खिलखिलाती सी,
और कुछ इठलाती सी,
खेलती और लहलहाती,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

बया को आसरा देती हुई,
उस भँवरे से घंटों,
बातें करती हुई,
उसके गुनगुनाने का,
आनंद लेती हुई,
उन लम्हों को याद करती हुई,
आज फिर से रो पड़ी,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

उम्र गुज़रते हुए देखती हुई,
मैं रंग बदलती हुई,
हरे से नारंगी,
नारंगी से पीली,
 और फिर पीली पड़ती हुई,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

अतीत की ओर झाँकती हुई,
पिछले बसन्त को सोचती हुई,
याद कर-कर टूटती हुई,
इस धरती पर पड़ी हुई,
और इसी में समा जाने का,
इंतज़ार बेसब्र करती हुई,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

पर, मैं फिर जन्म लूँगी,
मैं फिर लहलहाऊँगी,
मैं, ना हारने वाली,
मै, ना रुकने वाली,

“मैं” पत्ती टूटी हुई!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं