अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

फूलों का आँगन

शायद फिर उस आँगन में कुछ फूल खिलते हों
जिनकी मस्त ख़ुशबू आज तक मेरे ज़हन में है
वही आँगन जहाँ दिखती थी दुनिया किलकिलाती सी,
मुझे हर सू बुलाती सी,
वही आँगन जहाँ गुज़री थीं मेरी चाँदनी रातें
कहानी सी सजी बातें
वही आँगन जहाँ मैं खेलता था, दौड़ता था,
पेड़ के झले में घन्टों झूलता था
वही आँगन जहाँ था नीम का लम्बा दरख़्त
अदना, बहुत ऊँचा
जिसको मैं ख़ुद से नापता था, सोचता था
एक दिन बहुत बड़ा हो जाऊँगा
नीम से भी ऊँचा उठ जाऊँगा
और छू लूँगा वह नीला अम्बर
तोड़ूँगा वह सब चाँद सितारे
जिनको दादी हर रात दिखाती है
अनमोल कहानी में हर रात सुनाती है।

एक ऊँची सी दीवार थी, बग़ल में,
उस आँगन के
पीली मिट्टी से लिपी हुई कुछ चूने से पुती हुई
दीवार में मुझको दिखती थीं लाखों तस्वीरें
देखा करता था जिनको मैं घन्टों घन्टों
और फिर मैं ख़ुद को पाता था उस दुनिया में
जो रंगी हुई थी खुशियों से
और सजी हुई थी चाहों से
जिसमें मुझको दिखते थे बस सपने ही सपने
जिसमें मुझको लगते थे सब अपने ही अपने
और जब दीवार पर बैठा कबूतर का जोड़ा गुटुर गुटुर गाता
मैं भी उनके साथ एक गीत गुनगुनाता
अचानक रामू कुन्डी खटखटाता और कहता
रज़ा, चलो चल कर खेलते हैं, फूलों के आँगन में

हाँ ऐसा ही था मेरा बचपन
उस आँगन में, जिसमें, वह फूल खिलते थे
पर अब वह आँगन, मैं पिछले बरस छोड़ आया हूँ
एक नया सूद उतारने की ख़ातिर
आँगन का वह हिस्सा जिसमें फूल खिलते थे
पटवारी को आधे दाम बेच आया हूँ

कल घर से रामू का ख़त आया है, लिखता है

डियर रज़ा
तुम बाहर अच्छे होगे
किल फिर मैं तुम्हारे घर गया था
आँगन की वह दीवार जिस पर कबूतर
बैठते थे
पिछले महीने बरसात में गिर गयी
आँगन में वह फूल
जिनसे हम खेलते थे
दीवार के नीचे धँस गय
पटवारी ने नीम का दरख़्त कटवा दिया है
आँगन को सीमेन्ट से पटवा दिया है
और अब वह आँगन में बहुत बड़ा सा
एक ऊँचा सा, आलीशान सा,
घर बनवा रहा है
उस आँगन में, जिसमें हम तुम खेलते थे
उस आँगन में, जिसमें वह फूल खिलते थे
                                   तुम्हारा दोस्त-- रामू

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

ग़ज़ल

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं