अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पुराने दोस्त

सब कहते हैं कि हम सब साठ साल के हो गये
लगता भी कुछ ऐसा है और सच्चाई भी यही है
सफ़ेद और थोड़े काले बाल
ज़िंदगी के बचे कुछ साल
ख़्यालों में अक्सर सोचता हूँ
पीछे मुड़ कर बीता देखता हूँ
पक्की सड़कों पे रोज़मर्रा इसी दौड़ भाग में
गर्मी सर्दी बारिश और सूखे की मार धाड़ में
कितनी तेज़ी ज़िंदगी का वक़्त निकल गया
पिछले साठ सालों का सफ़र कैसे गुज़र गया
कुछ पता ही न चला

इन बीते साठ सालों में
बहुत से मेरे दोस्त बने
कुछ मुझको छोड़ गये
कुछ दुनिया में कहीं खो गये
कुछ दुनिया से जुदा हो गये
और आज भी अनगिनत दोस्त हैं
रोज़ मिलते हैं और बहुत क़रीब हैं

और शायद फिर इसी तरह नये नये दोस्त बनते रहेंगे
जब तक मेरा जिस्म साँस लेता रहेगा

पर
वोह दोस्त जो चालीस साल पहले बने थे
साथ साथ पढ़े थे
खेले कूदे थे
अपने बचपन में
जिनसे शायद इन पिछले बीते सालों में
उनसे कुछ बार ही मिल पाया मैं सालों में
वोह मुझे आज भी
अपने सगों से ज़्यादा अच्छे लगते हैं
क्यों...?

इसका जवाब तो मेरे पास नहीं
पर इसका विश्वास मेरे पास ज़रूर है
शायद तुम्हारे पास भी
टटोलो ख़ुद को
हम दिल के
किसी न किसी भी कोने मैं
कहीं न कहीं साथ साथ हैं
बसे हैं
और सारी ज़िंदगी
बसे रहेंगे
तुम्हारे
हम

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

ग़ज़ल

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं