अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रंगीन पतंगें

अच्छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें
काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें
कुछ सजी हुई सी मेलों में
कुछ टंगी हुई बाज़ारों में
कुछ कटी हुई कुछ लुटी हुई
कुछ फंसी हुई सी तारों में
कुछ उलझी नीम की डालों में
उस नील गगन की छाओं में
सावन की मस्त बहारों में
पर थीं सब अपने गाँव में

अच्छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें
काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें
था शौक मुझे जो उड़ने का
आकाश को जा छूने का
सारी दुनिया में फिरने का
हर काम नया कर लेने का
अपने आँगन में उड़ने का
ऊपर से सबको दिखने का
फिर उड़ कर घर आ जाने का
दादी को गले लगाने का
कैसी अच्छी लगती थीं बेफ़िक्र उमंगें
वो सब रंगीन पतंगें
काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

अब बसने नये नगर आया
सब रिश्ते नाते तोड़ आया
बचपन भी अपना छोड़ आया
कुछ पाया और कुछ खो आया

दिल कहता हैं मैं उड़ जाऊँ,
बन कर फिर से रंगीन पतंग
कटना है तो फिर कट जाऊँ,
बन कर फिर से रंगीन पतंग
लुटना है तो फिर लुट जाऊँ
बन कर फिर से रंगीन पतंग
आकाश में ही फिर छुप जाऊँ
बन कर फिर से रंगीन पतंग

पर गिरूँ उसी ही आँगन में
और मिलूँ उसी ही मिट्टी में
जिसमें सपनों को देखा था
जिसमें बचपन को खोया था
जिसमें मैं खेला करता था
जिसमें मैं दोड़ा करता था
जिसमें मैं गाया करता था सुरदार तरंगें
जिसमें दिखती थी मुझको बस खुशहाल उमंगें
वो सब रंगीन पतंगें
काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

ग़ज़ल

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं