अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

समय (नीरज सक्सेना)

अनियंत्रित क्षणों से 
जीवन भरा भरा
जीवन का पथ हैं 
निरा घना घना
समय अड़ा कहता, 
मैं नित नया उत्पात हूँ
जो तुम डिगो नहीं, 
तो मैं तुम्हारे साथ हूँ


नित नई चुनौती किंतु 
लक्ष्यों का पता नहीं
अनभिज्ञता ही मानस 
की, सदा व्यथा रही
समय कहे, एक पल 
दिन, दूजे पल मैं रात हूँ
जो तुम डिगो नहीं 
तो मैं तुम्हारे साथ हूँ


कंटक पथ प्रतिस्पर्द्धाओं 
का मार्ग संकरा
अंधड़, पतझड़, बसंत, 
कभी सावन हरा भरा
समय कहे क्या रूप धरूँ 
स्वयं भी मैं अज्ञात हूँ
जो तुम डिगो नहीं, 
तो मैं तुम्हारे साथ हूँ


वात के प्रतिकूल 
झोखों की मैं शृंखला
सर्द वादियाँ, तपता बंजर, 
मैं फुहार की अंतर्कथा
निर्भय की जीत मैं, 
निर्बल मन एक झंझावात हूँ
जो तुम डिगो नहीं, 
तो मैं तुम्हारे साथ हूँ


जो विमुख नहीं, गिर 
के उठा, उठ के गिरा
जो हर अवस्था निडर, 
मार्ग पर बढ़ता चला
समय कहे मैं विभिन्नताओं 
का असीम प्रपात हूँ
जो तुम डिगो नहीं, 
तो मैं तुम्हारे साथ हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं