अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सरहद

(एक)
ये तेरा है, ये मेरा है,
ऐसा क्यों होता है।
सरहद पर ख़ून के छींटे,
क्या किसी ने पहचाने हैं।

 

शहीद की माँ,
आतंकी की विधवा,
अश्रुओं की बहती धारा को,
कब किसी ने रोका है।

 

तनी हुई संगीन,
उठी हुई तलवार,
काटती धड़कनें,
बर्फ़ के चेहरे,
वो अंतिम इंतज़ार
जमे हुए दर्द की सिल्ली,
कब शौर्य चक्र से फूटी है।

 

राष्ट्रपति का संदेश,
पच्चीस लाख रुपये,
वो काँसे का मैडल,
दो दिन की सहानुभूति,
एक और शिलान्यास,
शहीदों की मज़ार पर,
कब सूनी कोख की मरती 
आरज़ू को रोका है।

 

नेताओं की स्वार्थ,
आत्मप्रवंचना,
शहीदों के मूल्य,
समझौतों की नीतियाँ,
बसों आवाजाही,
सरहद के पार की ख़रीदारी,
कब दिलों की सरहद को तोड़ा है।

(दो)
आमंत्रण - निमंत्रण,
शाहजहाँ के प्यार,
हसरत के दो टुकड़े,
क्या नहीं,
आगरा सम्मेलन।

बीत गई 
आधी सदी,
और होते रहेंगे,
सुपुर्द-ए-ख़ाक,
समझौतों की मज़ार पर
नए जन्मे सपने।

सुनो।
ध्यान से सुनो।
घोड़ों की टापें,
मद्धम हिनहिनाहट,
शांति के रश्मि रथी की।

शायद,
होगी आसान,
अब शहीदों की मौत।

शायद,
होगा छोटा,
अब शहीदों का क़ब्रिस्तान। 
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं