अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शायद मैं आग हूँ!

शायद मैं आग हूँ?
एक असिमित प्यास हूँ, उत्साहित दिलों की आस हूँ;
सूर्य का प्रकाश हूँ, एक सुंदर एहसास हूँ;
सिंह की दहाड़ हूँ, एक ऊँचा पहाड़ हूँ;
छोटी चिंगारी की विशाल भड़क हूँ,
मैं तो विश्व की सबसे व्यस्त सड़क हूँ;
शायद मैं आग हूँ?

भारी चट्टान हूँ, देश और समाज का उत्थान हूँ;
एक संकल्प हूँ, एक त्याग हूँ;
मैं आराम नही, एक भागम - भाग हूँ;
संघर्ष हूँ, एक बहुमुल्य परामर्श हूँ;
मैं औषधि हूँ, ना कि किसी तूफान की त्रासदी हूँ;
शायद मैं आग हूँ?

मैं आज का भविष्य, और वक्त की माँग हूँ;
जद्दो - जहद का परिणाम हूँ;
मै सुंदर व्यवहार हूँ, और एक क़ातिल प्रहार हूँ;
अनेक रोगों की दवा हूँ, एक स्वछंद हवा हूँ;
शायद मैं आग हूँ?


नदी की तेज़ धार हूँ, रक्षकों की तलवार हूँ;
मैं लाचारी का सटीक उपचार हूँ;
गायक का गला हूँ, एक मूल्यवान कलाकृति की कला हूँ;
मैं एक लम्बी कहानी हूँ,
ना कि किसी उपन्यास का संक्षिप्त सार हूँ;
परिस्थितियों का गुणा - भाग हूँ -
अब मुझे लगता है कि -


शायद मैं आग हूँ !
शायद मैं आग हूँ !!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं