अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सृष्टि का सार : नारी

करूँ मैं तेरी महिमा का मंडन,
या तेरी वेदना का चित्रण
बतलाऊँ मैं तेरी क्रूरता,
या दिखलाऊँ तेरा समर्पण


करूँ बखान मैं तेरे गुणों का,
या अवगुणों की खान दिखाऊँ
करूँ तेरे चरित्र का गान या,
तेरी अस्मत पर बाण चलाऊँ


क्योंकि...


नारी है तू नारी है,
गांडीव गदा कटारी है
सबल सशक्त सहज सरल,
अबला है और बेचारी है


सशक्त भी तू है, अशक्त भी तू है
क्षण क्षण में व्यक्त भी तू है
ताज भी तू है, तख्त भी तू है
हाड़ माँस और रक्त भी तू है


बाग बाग में कूजित तू है
वेदों में सम्पूजित तू है
युग युग में सम्मानित तू है
कालचक्र में कलुषित तू है


शांत सौम्य पार्वती तू है
रौद्र रूपा काली भी तू है
तपस्विनी योगिनी तू है
तंत्र मंत्र कपाली भी तू है


ब्रह्मा की वाणी भी तू है
क्षीरसागर का पानी तू है
महादेव की शक्ति है तू
नारायण की नारायणी तू है


नवरात्रि में पूजित तू है
माहवारी में दूषित तू है
तू गंगाजल धारा सी पावन
अहिल्या सी शापित भी तू है


सूरज की उष्मा भी तू है
चंदा की शीतलता तू है
बाधा विघ्नों की कारक तू है
और विघ्न-हर्ता भी तू है


राग भी तू है, द्वेष भी तू है
प्रेम, क्षमा और क्षोभ भी तू है
त्याग, तप, बलिदान भी तू है
मोह भी तू और लोभ भी तू है


सदाचारी है तू, अनाचारी भी तू
ज़ुल्म है तू, अत्याचारी भी तू
भोग्य भी तू है, भोग्या भी तू
तू ही आदर्श, व्यभिचारी भी तू


तू ही जननी, तू ही जाया
तू ही जग की मोहिनी माया
तू ही जड़ है, तू ही चेतन
तू ही श्वास है, तू ही काया


सीता जैसी एकव्रता तू
पांचाली सी बँटी भी तू है
आम्रपाली सी नगरवधू तू
सावित्री सी सती भी तू है


जान भी तू है, शान भी तू है
जन जन का अरमान भी तू है
मान भी तू, अपमान भी तू है
हर नर की पहचान भी तू है


हर मंदिर की मूरत तू है
वेश्यालय की सूरत तू है
कण कण में बसती है तू ही
सकल विश्व की जरूरत तू है


योग भी तू, संभोग भी तू
निश्चित तू है, संयोग भी तू
संयम है तू, तू ही वासना
दुत्कार है तू और तू ही उपासना


धरा भी तू, आकाश भी तू है
दूर भी तू और पास भी तू है
भूख भी तू और प्यास भी तू है
जीवन की हर आस भी तू है 


इश्क़ भी तू है, नफ़रत भी तू
पाप पुण्य की फ़ितरत भी तू
शौक़, मौज और लालच भी तू
दुर्भाग्य भी तू है, क़िस्मत भी तू


सुख भी तू है, शांति भी तू
कष्ट है तू और क्लेश भी तू
रोग भी तू, उपचार भी तू
संपूर्ण है तू और शेष भी तू
संपूर्ण है तू और शेष भी तू


क्योंकि... 


नारी है तू नारी है
गांडीव गदा कटारी है
सबल सशक्त सहज सरल
अबला है और बेचारी है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं