अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तलाक़ 

पिछले कई महीनों से चल रहा आठों प्रहर का चखचख आज अदालत में तलाक़ की अर्जी मंजूर होने के साथ ही समाप्त हो गया।

रवि ने राहत की साँस लेते हुए इधर-उधर नज़रें दौड़ाईं। दूर अदालत के कोने में खड़ी नीलिमा उसे दीख गई। वह निर्निमेष ढंग से उसे ही निहार रही थी। वही नीलिमा जो कुछ समय पहले तक उसकी ब्याहता पत्नी थी और जिसके साथ उसने अग्नि को साक्षी मानकर जीने-मरने की क़समें खाई थी, अब एक अपरिचित महिला के रूप में अनिश्चित भविष्य की गठरी लिये चौराहे पर खड़ी हो गई थी।

रवि को हृदय के एक कोने में कुछ रिसता-सा महसूस हुआ। किन्तु गर्दन झटककर उसने अपनी उभरती भावनाओं को क़ाबू में किया और फिर तेज़ किन्तु सधे क़दमों से अदालत की सीढ़ियाँ उतरने लगा।

“सुनिए,” अंतिम सीढ़ी पर पहुँचे रवि के पैरों पर मानो ब्रेक लग गये। वह ठिठक कर जहाँ का तहाँ खड़ा हो गया। ऊपर की सीढ़ियों पर पल्लू थामे नीलिमा खड़ी थी।

“अब भी कुछ कहने-सुनने को बाक़ी रह गया है क्या?” झुँझलाते हुए पूछा रवि ने। उसे भय लग रहा था कि नीलिमा कहीं माँ के पुराने गहनों की चर्चा न कर बैठे। इसीलिए वह जल्दी-से-जल्दी उससे पिंड छुड़ाकर भाग जाना चाहता था।

“आपकी दवा का कोर्स पूरा होने में नौ दिन और बाक़ी रह गये हैं, उसे पूरा कर लीजिएगा,” संयत स्वर में वाक्य समाप्त कर नीलिमा वापस लौट गई। रवि सन्नाटे में घिरा उसे देखता ही रह गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

कविता

बाल साहित्य कहानी

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं