अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तरुण

सुना तू है स्वाभिमान का रखवाला 
माँ भारती का है तू वीर मतवाला
कहाँ गया फिर तेरा  जोश जुनून
कहाँ खो गया रे तू हिम्मतवाला 

 

याद रख तुझसे ही है यह धरा
इसकी उम्मीदों पर  उतर खरा
तू है उपवन का खिलता कुसुम
तुझसे है यह चमन हरा-भरा

 

क्यों चुनर चोली चुम्बन में तू डूबा
इतराते बलखाते यौवन पर  झूला
उठो! उठो जागो टटोलो खुद को
चल पथ पर क्यों मंजिल को भूला

 

मत डूब मधुर रात के आलिंगन अंगड़ाई में
गालों के शर्मीलेपन पर आँखों की सुरमाई में
यह विलास है- है यह क्षणिक नयनसुख 
भर तूफ़ानी जोश अब अपनी तरुणाई में 

 

उठो! मत देर कर कर लक्ष्य सन्धान
कुछ कर गुज़र, हो तुम पर गुमान
दृढ़ता से कर मुकाबला बना साख
देख कर्म तू ज्यों पार्थ ने देखी मीन आँख

 

उठो! मैं तुमको समझाने आया हूँ
भारत माँ के घाव दिखाने आया हूँ
मत डूब अब इस भोग-विलास में
त्याग निंद्रा मैं तुम्हें जगाने आया हूँ

 

भूल सुरीला राग जो तुझे रिझाता हो
वो शत्रु शर सम है जो सन्मुख शर्माता हो
पहचान अरि, जो मगर अश्क बहाता हो
उठो विवेकानंद तुम्हीं भार्त निर्माता हो।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं