अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तुम्हारा पावरहाउस

वो नीम का पेड़ याद है 
जिसे हम चुराकर लाए थे 
पड़ोसी की बाड़ी से 
और लगाया था ज़िद करके 
तुमने मेरी बाड़ी में 
आज वह बहुत घना हो गया है 
बिल्कुल तुम्हारी बालों की माफ़िक 
जब भी तुम याद आते हो 
बैठ जाता हूँ इसके क़दमों तले 
जैसे बैठ जाता था अक्सर 
तुम्हारी गोद में ज़ुल्फ़ों के साए तले 
तुम तब अक्सर बैठे-बैठे दूब तोड़ने लगते थे 
तब मैं नहीं समझ पाता था 
लेकिन आज मैं भी जाने अनजाने 
ज़मीं पर उगे दूब तोड़ने लगता हूँ 
पता है एक बार तो यह नीम सूख ही गया था 
लेकिन दादा के नुस्खे ने इसमें जान डाल दी 
तब मुझे ऐसा लगा था 
मैंने तुम्हें बचा लिया है; रोक लिया है 
जाने से कहीं दूर 
जैसे रोकता है एक हठी बच्चा अपनी माँ को 
आँचल पकड़कर ज़ोर-ज़ोर से रोकर 
लेकिन आज मालूम होता है 
कहाँ रोक पाया था तुम्हें 
लेकिन क्यूँ रोकता 
तुम्हें रोकना तुम्हारी उड़ान को रोकना था 
तुम्हारे सपनों संग खेलना था 
और वैसे भी मुझे तो सब पसंद था 
तुम्हारी हँसी तुम्हारी रुलाई 
तुम्हारा गुदगुदाना तुम्हारा दबे पाँव आना 
तुम्हारी शरारत तुम्हारी शिकायत 
तुम्हारी बदमाशियाँ तुम्हारी नादानियाँ 
और सबसे ज़्यादा पसंद था 
तुम्हारा उड़ना और तुम्हारे बड़े-बड़े सपने 
जिसमें यूँ ही कभी मैं भी शरीक हो जाता था 
और पूछ बैठता था कभी-कभी 
मैं कहाँ हूँ इन सब में 
तुम हँसकर कह देते थे 
तुम तो मेरे पावरहाउस हो

 

आज गर जो तुम लौटो कभी तो 
शायद तुम न पहचान पाओ मुझे 
और न ही इस नीम को 
लेकिन यह नीम तुम्हें पहचान लेगा 
क्योंकि जितना मैंने तुम्हे जाना है 
उससे कहीं ज़्यादा इसने तुम्हें महसूस किया है 
मेरी बातों में मेरी यादों में मेरी आहों में 
और मेरे और नीम की गुफ़्तगू में 
हमेशा तुम भी तो थे 
कभी इत्तेफ़ाक़ से बैठ जाओ इसकी छाँव में 
तो यह सब बक देगा 
हो सकता है तुम्हें कोसे भी 
मगर बुरा मत मानना 
और वैसे भी तुम उड़ो 
ज़मीं पर मैं हूँ न 
तुम्हें सँभालने के लिए; बचाने के लिए 
हमेशा की तरह 
तुम्हारा पावरहाउस!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं