अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

उस दिन

बड़े ग़ौर से आज
मैंने तुम्हारी आँखों को देखा था,
आकाश के विस्तार सा
मेरा सब..
अपने आग़ोश मे रखने के लिये -
जैसे वचनबद्ध हो।

मेरी आँखें झुक गयीं,
मैं इस विस्तार का
आख़िरी सिरा छूने को बेताब
अपनी हद ढूँढने का प्रयास करती
तरह तरह के क़यास लगाने लगी…

पर सब मृगमरीचिका ही थीं
तुम्हारी कही बातों से इतर
तुम्हारा सत्य खोजने को आतुर –
मेरा कमज़ोर अविश्वास…
हमेशा परास्त होता रहा
और मैं विजयी।

जैसे तुमने अनन्त युगों से
मेरे गिर्द अपने प्रेम की
लक्ष्मण रेखा खींच रखी हो
और मैं हर जन्म उसी दायरे में -
अपना सर्वस्व समर्पित करती हूँ ...
मै अतृप्त ही तृप्त रहती हूँ ये सोच
कि तुम्हारा कोई सिरा...
भले ही मेरे पँहुच से परे हो
पर मुझसे अलग नहीं
हर कोना मुझ पर
आकर अपना अर्थ पाता है
और ये सोच मेरा रोम रोम
गर्वान्वित हो उठता है
तुम्हारे सामने मेरी झुकी आँखें
मेरे प्रेम की विजय की प्रतीक हैं तो जाओ..
फैलाओ अपना विस्तार आकाश के उस पार
मेरा प्रेम तुम्हारी धमनियों में प्रवाहित हो
तुम्हें संबल ही देगी....
और वही मेरे प्रेम की जीत होगी॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं