अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वो भूखा 

वो भूखा 
भटक रहा था 
भीड़ भरी सड़कों पर 
कि अचानक कभी-कभी धम्म से बैठ जाता 
की थक के गिर जाता, 
रिसता लगातार अपने पसीने में
सोचता, कि क्यों भूखा है वो ?
उसकी ही वज़ह से!
उसका जवाब उससे फ़ौरन आता 
वो कौन है...वो? जो उसकी वज़ह है...


बड़ा पेचीदा और गंभीर सवाल आता  मार उछाल 
माथे से टपकते पसीने के साथ पोंछ 
इस सवाल को झटकता ज़मीन पर 
कि बेतुका ये सवाल किया करता है अक़्सर परेशान  
..किस चीज़ का भूखा है वो? उसे ख़ुद नहीं पता 
देखी ही नहीं वो चीज़ अभी तक, जिसका भूखा है 
शायद भूख वज़ह एक ये भी थी... 
पर ये तो एक सज़ा हुई...
भूख से तड़पने की,
इससे बड़ी और क्या सज़ा हो सकती है ?
तो क्या सज़ा इसे काटनी पड़ेगी?
हाँ मुझे ये सज़ा काटनी ही पड़ेगी...
कब तक...जब तक कि मैं जीत ना जाऊँ
कौन मैं?
फिर बेकार के सवाल!


वो उठ जाता है, पसीना सूख चुका है..
कुछ हवा भी बह रही है..
पर धूप भी कम नहीं है...
वो देखता है नज़र घुमा के नीचे रेंगती दुनिया को
मन तो करता है कि खा जाय सबको
तब भी भूख कम ना होगी..
पर जब ..तुम सब ही ना रहोगे, 
तो मेरी भूख किस काम की..
तुम हो तो भूख है ..!


चल पड़ता है आगे उन्हीं सड़कों पर 
दो चार क़दम ही चला कि फिर अटकता है
खड़े -खड़े मूर्त सा एक क्षण सोचता है
“..कहीं भटक तो नहीं तो नहीं गया मैं?
इन रोज़मर्रा की सड़कों पर..
मेरी  भूख कम तो नहीं हो रही..?
नहीं नहीं ..
भूख है!
जीने की चाह है!
तभी तो ढो रहा हूँ अपना आधा मुर्दा
पर क्या होगा..?
कहीं मैं ज़िन्दगी भर भूखा ही ना रह जाऊँ
और धीरे-धीरे पूरा ना मर जाऊँ
नहीं...ये तभी हो सकता है जब
मुझे अपनी भूख से नफ़रत हो जाय 
..नफ़रत तो है ही इससे कहीं दबी कुचली
इस एक भूख के चक्कर में 
कुछ भी तो नहीं भोग पाया..
बस खा रहा हूँ ख़ुद को धीरे–धीरे
सब मौसम बेमौसम बीते 
बस इसी एक रंग के ख़ातिर..”


सोचते-सोचते सिगनल पर आ पहुँचा
ठहरा एक क्षण रोज़ की तरह 
लाल बत्ती देखते...
पलटकर पीछे खड़ी भीड़ देखते
उसे डर है भूख से अपनी
कि कहीं अपराधी ना बना दे ये मुझे...
और कौन इस दुनिया में जो 
सह सकता है भूख अनिश्चित काल तक,
कोई नहीं...कोई नहीं!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं