अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अन्त्येष्टि - कुछ भाव

कफ़न
बर्फ़ के पैसे बचा
बेटा ले तो आया है
किंतु कब तक
ये धूपबत्ती सँभाल पाएगी दुर्गंध
विधवा के मन में
चल रहा है ये द्वंद्व
सोच रहा है बेटा उधर
पिता के मृत शरीर पर
यदि फटी धोती
डाली जा सकती
तो ख़रीद लाता वह
माँ के लिए एक धोती सस्ती।


करवट
लंबी काली कार पर
सजा दिए गये हैं
फूलों से लिखे संदेश
‘लव यू पापा’
‘मिस यू ग्रैंड डैड’
‘फ़ेयर दी वैल हब्बी’

शवपेटिका में लेटे
करवट बदल रहे हैं
वही दादा जो
जीवन भर
ग़ुलामी के विरुद्ध खटे।

कुट्टी
काली टाई लगाये
दस वर्षीय पोता
माँ से ज़िद कर रहा है
शवपेटिका को खोलने की
भला उसके दादा
इतनी देर कैसे चुप रह सकते हैं
काला रिबन और
नई काली फ्रॉक पहने
पिता की अँगुली थामें
सहमी सी चल रही है पोती
अपने दादा से उसने
कल ही तो कुट्टी की थी।

 

नुमाइश
काले क्रिस्प सूट पहने बेटे
मेहमानों की खातिर में लगे हैं
सिल्क की साड़ियाँ पहने बहुएँ
अपने चमकते हीरों की
नुमाइश में लगीं हैं
बिचका के मुँह
किसी ने कहा
एक दिन के लिए
इतने महँगे हीरे लेने का क्या फ़ायदा
बहु ने खटाक से जवाब दिया
पर हीरे तो हर मौक़े पर
पहने जा सकते हैं।

 

शिष्टाचार
नई नवेली विधवा
पड़ौसिनों से घिरी बैठी है
काली सिल्क की
नई साड़ी में लिपटी
असहज
‘कैसी हो?’
‘आल राइट?’
‘केम छो?’
के प्रश्नों के भँवर में
डूबती उबरती
‘हाँ’ में सिर हिलाती है तो
पाती है कि वह ज़िंदा है।

 

तेरहवीं
सफ़ेद और लाल शराब में
तैरते लोग अपनी अपनी
चपर चपर में लगे हैं
तरह तरह के पकवान सजे हैं
‘अरे कोई मृतक को भी याद कर लो’
दिल्ली से आई ताईजी ने कहा

कँधे उचका कर
लोग इधर उधर हो लिए
बहू ने लपक कर भरे दिये में
कुछ और घी डाल दिया
बेटे ने जगजीत सिंह के भजनों की
टेप लगा दी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

पुस्तक चर्चा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं