अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बचा रहे औरत का चिड़ियापन

मौसम आ गया है
फिर से
पत्नी और चिड़ियों के बीच
नोक-झोंक का,
पत्नी
घर सँवारने की ज़िद में
उजाड़ देती है घोंसले
चिड़ियेँ घर बसाने की आकांक्षा में
बिखेर देती हैं पत्नी का झाड़ू
और
गूँथ देती हैं तिनका-तिनका
किसी रोशनदान, आले या अलमारी की
ऊपरवाली ताक में!


चिड़ियों को नहीं मालूम
कि
इन सबका मालिक भी है कोई
वे तो सारी दुनिया को
समझती हैं अपना
और होती हैं अचांभित
कि कोई क्यों उन्हें
अपनी दुनिया से
कर देना चाहता है बेदख़ल


एक दिन
बिखर जाता है छिटककर
पत्नी के हाथ से झाड़ू
चिड़ियें बेख़ौफ़ चुनती हैं तिनके
आले, रोशनदान में
बस जाती हैं बस्तियाँ
पत्नी
टुकुर-टुकुर ताकती है रोशनदान को
और होती है प्रमुदित
सुनकर चीं चीं कलरव!


मुझे
बू आती है किसी दुरभिसंधि की
मेरी हैरानी भाँप
पत्नी
दीवार पर टँगे कैलेण्डर को
एक पल
देखती है तिरछी नज़र से
फिर
छिपा लेती है मुँह मेरे सीने में
(जैसे कोई चिड़िया स्वयं को घोंसले में)
कैलेण्डर पर
एक शिशु की
भोली मुस्कराहटों के
छितरे हुए हैं इन्द्रधनुषी रंग
पत्नी की आँखों में
फुदक रही है मासूम चिड़िया
वही
सर्वव्यापी अपनत्व
वे ही मुलायम डैने
आकाश को माप लेने का
वैसा ही हौसला और हिम्मत


सोचता हूँ मैं
बचा रहे औरत का चिड़ियापन,
बची रहेगी दुनिया!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं