अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बूढ़े होते हुए

बाल तुम्हारे सफ़ेद हो गये
कितने के हो जाओगे इस साल
चालीस से तीन ज़्यादा
लेकिन बच्चे तो तुम्हारे छोटे हैं
जूते समेत
घर के अंदर घुसने पर
पत्नी ने
फटकार लगाते हुए कहा,
बूढ़े हो गये,
लेकिन,
अभी भी तुम्हें
अक्ल नहीं आई

आज छोटी बेटी ने स्कूल से आते ही
उलाहना दिया
आप बालों में
कालिमा क्यों नहीं लगाते
मेरी दोस्त कह रही थी
बूढ़े बाबा
जो तुम्हें स्कूल छोड़ने आते हैं
क्या तुम्हारे दादा हैं

क्षितिज में लाली रहने तक
घूमता रहता हूँ लहरों संग
अनवरत चलता है
कामों का सिलसिला
हर दिन अँधेरों से
प्रतिस्पर्धा करता हूँ
उच्च ज्वार
अभी भी आते हैं मुझमें

मैं ही सुलझाता हूँ उलझने
मैं ही सँवारता हूँ घर को
सूरज-चाँद मैं ही हूँ
नैया का खेवनहार भी मैं ही हूँ

क्या मैं
चिर युवा नहीं दिख सकता
क्या मैं
बालों की सफ़ेदी को
उसका हद नहीं दिखा सकता
क्या मैं
कटाक्षों को
खूँटी पर नहीं टाँग सकता
क्या मैं
बच्चों से
थोड़ी चंचलता
उधार नहीं ले सकता

मैं तो उगता सूरज हूँ
नभ का चमकता सितारा हूँ
समंदर की रवानगी हूँ
नदी की मिठास हूँ

ठहरो,
बच्चों की निश्छलता
मुझ में भी रहने दो
युवाओं की दीवानगी
को जीने दो मुझे
तूफ़ान की तेज़ी को
पनपने दो मुझमें
आकाश की तरह
अनंत होने दो मुझे
फगुनाहट की बयार में
बहने दो मुझे
सवाल मत खड़े करो
जीने दो मुझे
एक मदमस्त ज़िंदगी

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं