अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कोरोना (जावेद आलम खान)

जो मरा होकर भी ज़िंदा है 
और ज़िंदा होकर भी मरा हुआ 
एक नन्हा  सा जीवितमृत विषाणु
जिसकी इतनी भी हैसियत नहीं 
कि नंगी आँख से देखा जा सके 
उसने अशरफुल मख़लूक़ात की डींगें 
हाँकने वाली नस्ल को. . . 
ब्रह्माण्ड में उसकी औक़ात दिखा दी 

अशरफुल मख़लूक़ात = प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ


आधुनिकता के सारे दावे घरों में बंद है 
बंद हो चुके हैं आस्थाओं के कपाट 
चिंता की लकीरें  ढोते ललाट 
हलकी सी पीड़ा में बेचैन हो जाते हैं 
तरुणाई की उमंग में फूटी प्रेम की कोंपलें
भय की भट्टी पे भुन रही हैं सींक में 
एक ही छींक में –
दिल बाहर निकल पड़ता है नाक के रस्ते 
ज्ञानेन्द्रियाँ पहचान चुकी हैं अपनी सीमायें 
डरे हुए चेहरों पर पहरा है मास्क का 


उत्सवजीवी मानव 
अपनी गति से ब्रह्माण्ड को नापने वाला मानव 
अपनी क्रूर आकांक्षाओं की उदर तृप्ति की ख़ातिर 
घोड़ों की टापों से धरती की –
कोमल भावनाओं को रौंदने वाला मानव 
क़ुदरत के निज़ाम में फेरबदल करने वाला मानव 
अपनी ज़िन्दगी बचाने को सबसे दूर है 
एकांत ओढ़ने पर मजबूर है 


सहमी बंदूकें घर के कोनों में दुबकी हैं 
तलवारें माँग रही हैं म्यान में पनाह 
लाठियाँ अपनी कठोरता पर शर्मिंदा हैं 
वे बाँसुरी बनकर सप्तसुरों में प्रेम सुनाना चाहती हैं 
मानव की जिजीविषा को गुनगुनाना चाहती हैं 
शायद उनके प्रायश्चित से शांत हो सके 
नफ़रत की कोख से उपजा वायरस 
निर्दयी आँखों में उमड़ने लगे जीवन का रस

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं