अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डायरी के पन्ने

एक दिन पुरानी डायरी का 
एक पन्ना
अचानक जैसे -
कुछ कहने लगा
उभरकर कर आए 
अचानक कुछ नाम
जो सम्बन्धित थे


एक ख़ुशी से और 
वह थी भविष्य में,
घर में बच्चे के जन्म लेने जैसी घटना की 
पिता बनने की
इसीलिए 
अति उत्साह का संचार भी अंतरंग में
साथ इसी के जन्म लेती है एक योजना
योजना अजन्मे बच्चे के नामकरण की


योजना एक विलग क़िस्म के नाम की, 
संस्कार की
सोचा गया, पड़ताल की गई, 
खंगाला गया
शब्दकोशों और विश्वनाम कोशों को,
विवेचना हुई, हुआ विमर्श 
कुछ श्रेष्ठ नामों और 
उनके अर्थ-पर्यायों पर 
नाम जो निष्कर्षतः सामने थे, 
जिन्हें चुना गया था 
मेरे द्वारा सामूहिक रूप से
वे थे 
वैदिक, विनायक,अध्वर्यु, सिद्धार्थ,
ऋषभ, व्योम, हर्ष, जलज, 
विलोचन, नलिन, कैवल्य


बेटी के जन्म के अट्ठारह माह बाद
वे नाम जो कभी लिखे थे 
किसी पृष्ठ पर
वे पृष्ठ मानो 
जानबूझकर 
कर रहे थे इंतज़ार 
समय का
दिखाने के लिए आईना।


इसीलिए वे पुनः 
उपस्थित हुए मेरे समक्ष
वे ही पृष्ठ मुझे मेरी 
तत्कालिक मनःस्थिति के लिए 
कोस रहे हैं
दे रहे हैं उलाहना 
उन्हीं नामों को प्रत्यक्षदर्शी बनाकर
अभिशप्त, श्रापित-सा मुझे छोड़
पलट जाते हैं फेरकर मुँह अपना 


लौट जाते हैं अपने पन्ने साथियों के पास 
धकेल जाते हैं पछताने के लिए 
अकेला अग्निवन में झुलसने के लिए

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं