अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गौतम कुमार ’सागर’ – मुकरियाँ – 001

1)
चिपटा रहता है दिन भर वो 
बिन उसके भी चैन नहीं तो
ऊँचा नीचा रहता ’टोन’ 
ए सखि साजन? ना सखि फोन!
 
2)
सुंदर मुख पर ग्रहण मुआ
कौन देखे होंठ ललित सुआ 
कब तक करूँ इसे बर्दाश्त 
ए सखि साजन? ना सखि मास्क!                 
 
3)
इसे जलाकर मैं भी जलती 
रोटी भात इसी से मिलती 
ये बैरी मिट्टी का दूल्हा 
ए सखि साजन? ना सखि चूल्हा!  
  
4) 
डार डार और पात पात की 
ख़बर रखें हज़ार बात की 
मानों हो कोई जिन्न का बोतल 
ए सखि साजन? ना सखि गूगल 
 
5)
उसकी सरस सुगंध ऐसी 
तृप्ति पाये रूह प्यासी 
फुलवारी का वो रुबाब 
ए सखि साजन? ना सखि गुलाब !
 
6) 
कभी तेज़ तो कभी हो मंद 
नदियों में वो फिरे स्वछंद 
पार उतारे तट के गाँव 
ए सखि साजन? ना सखि नाव !
 
7) 
क़समें, वादे और सौगंध 
वो है पदभिमान में अंध 
अबकी आए तो मारूँ जूता 
ए सखि साजन? ना सखि नेता!
 
8) 
हृदय के यमुना के तट पर 
आता वो है  बनकर नटखट 
रूप अधर और नैन मनोहर 
ए सखि साजन? ना सखि गिरधर 
 
10)
उसके बिन है जीवन मुश्किल 
चलो बचाएँ उसको हम मिल 
जीवन की रसमय वो निशानी 
ए सखि साजन? ना सखि पानी 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक

लघुकथा

कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं