अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

इश्क़ का रंग

मुसाफ़िर सा दर-बदर
तन्हा भटकता दिल मेरा
थम गया, जो तू मिला
सुकून सा था ढूँढ़ रहा
तेरे आग़ोश से यूँ लिपटा
जैसे तुझ में ही गुम हुआ
मेहरबान जो तुम हुए
गुमसुम दिल बहल गया
ग़मों में खोए ख़्वाब
जी उठे, मचल गए
उन्स में तेरे आने से
महक उठी साँसें मेरी
रूह को चैन मिला
धुआँ धुआँ ख़्वाब मेरे
पलकों पर थे सज रहे
जगा कर उन ख़्वाबों को
तसल्ली से तुम सेंक रहे
हर मुराद पूरी हुई
दस्तक जो रूह पे तूने दिया
दिल के शहरयार बन गए
साँसों पे हुक्म तेरा चला
इश्क़ मेरा रवाँ रवाँ
बेशुमार बह निकला
शम्स सा हर तरफ़ पसरा
दबे दबे एहसास मेरे
तेरे छूअन से जी उठे
तलब यूँ बहका गए
भटक रहा रूह मेरा
तुम साहिल बन गए
पहले सा ना रहा कुछ भी
ना अब मैं मैं ही रही
ना बेचैनी, ना तन्हाई
लगूँ मैं ख़ुद को ही अजनबी
तेरे कुर्बत में जो हूँ
नसीब पे अपने यक़ीन नहीं
फ़रमान हुआ तेरा जो
अश्क बन ढल गया
ख़ामोश आँखों से बह गया
ये दर्द नहीं, इश्क़ का रंग चढ़ा
इश्क़ का रंग मुझपे चढ़ गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं