अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कल और आज

वो भी क्या लोग थे आसां थीं राहें जिनकी
बन्द आँखें  किए स्मित चले जाते थे
अक़्ल-औ-दिल ख़्वाब-औ-हक़ीक़त की ना उलझन ना ख़लिश
मुख़त्लिफ़ जल्वे निगाहों को ना बहलाते थे

 

ख़लिश=चुभन, पीड़ा; मुख़त्लिफ़=विभिन्न

 

इश्क़ सादा भी था, बख़ुद भी, जनूँ-पेशा भी
हुस्न को अपनी अदाओं पे हिजाब आता था
फूल खिलते थे तो फूलोम में नशा होता था

 

हिजाब=लाज

 

चाँदनी कैफ़-असर रूह-आफ़ज़ा होती थी
अब्र आता था तो बदमस्त भी हो जाते थे
दिन में शोरिश भी हुआ करती थी, हंगामे भी
रात की गोद में मुँह ढाँप के सो जाते थे

 

कैफ़-असर=मादक; रूह-आफ़ज़ा=आत्मा को ताज़ा करने वाली
अब्र=बादल; शोरिश=हलचल

 

नरम राओ वक़्त के धारे पे सफ़ीं थे रवां
साहिल-ओ-बह्र के आईनां बदलते थे कभी
नाख़ुदाओं पे भरोसा था मुक़्द्दर पे यक़ीं
चादर-ए-आब से तूफ़ां ना उबलते थे कभी

 

नरम राओ=मन्द गति; सफ़ीना=नाव; साहिल=किनारा; बह्र=सागर
आईन=नियम; नाख़ुदा=मल्लाह; मुक़्द्दर=भाग्य; आब=पानी

 

हम कि तुफ़ानों के पाले भी सताये भी हैं
बर्क़-औ-वारां में वो ही शामें जलाये कैसे
ये जो आतिश-कदा दुनिया में भड़क उठा है
आँसुओं में उसे हर बार बुझायें कैसे

 

बर्क़=तड़ित; बारां=तूफ़ान; आतिश-कदा=अग्नि काण्ड

कर दिया बर्क़-औ-बुख़ारात ने महशर बर्पा


अपने दफ़्तर में लिताफ़त के सिवा कुछ भी नहीं
घिर गये वक़्त की बे-रहम कशाकश में मगर
पास तह्ज़ीब की दौलत के सिवा कुछ भी नहीं

 

बुख़रात=गरमी, उच्च ताप; महशर=निर्णय दिवस
लताफ़त=सुहानापन, सुघड़्ता; बे-रहम=अदय
कशाकश=संघर्ष; तहज़ीब=सभ्यता, शिष्टता

 

ये अन्धेरा ये तलातुम ये हवाओं का ख़रोश
इस में तारों की सुबुक नर्म ज़िया क्या करती
तल्ख़ी-ए-ज़ीस्त से कड़वा हुआ आशिक का मिज़ाज
निगाह-ए-यार की मासूम अदा क्या करती

 

तलातुम=विद्रोह; ख़रोश=चीख, उच्च स्वर; सुबुक=कोमल;
ज़िया=चमक; तल्ख़ी-ए-ज़ीस्त=जीवन की कड़वाहट

 

सफ़र आसां था ता मन्ज़िल भी बड़ी रोशन थी
आज किस दर्ज़ा पुर-असरार हैं राहें अपनी
कितनी परछाइयाँ आती हैं तजली बन कर
कितने जल्वों से उलझती हैं निगाहें अपनी

 

दर्जा=माप; पुर-असरार=रहस्यमयी, विषम, उलझनदार; तजली=तीव्र प्रकाश

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं